भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी करने वाले विकास की न दें दुहाई :  कांग्रेस

०० पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के आरोपों का कांग्रेस ने किया कड़ा प्रतिवाद

रायपुर । विकास कार्य रूकने के बृजमोहन अग्रवाल के आरोपों का जवाब देते हुये प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी की नीयत से फर्जी और गैर जरूरी निर्माण कार्यो को बढ़ावा देने वाले कांग्रेस को विकास की परिभाषा न समझायें। भाजपा की विकास की परिभाषा और कांग्रेस की विकास की परिभाषा में बुनियादी फर्क है। कांग्रेस के विकास की सोच जनोन्मुखी है, भाजपा के विकास के केन्द्र में कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार है।

सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि प्रदेश भर में सैकड़ों करोड़ रू. खर्च कर बिना जरूरत और योजना के पर्यटन मंडल के जगह-जगह मोटल बनाकर जनता की गाढ़ी कमाई के पैसे खंडहरों में तब्दील करना भाजपा की विध्वंसक विकास का ही परिणाम है। झलकी में किसानों की जमीने कब्जा कर भव्य फार्म हाउस बनाना भाजपा की विकास के पैमाने में आता होगा। नई राजधानी में बिना बसाहट और नियोजन के हजारों करोड़ रू. खर्च करना भाजपा के विकास की प्राथमिकता में है। कांग्रेस के विकास की सोच और विकास की परिभाषा में प्रदेश के 2.50 करोड़ आबादी की आर्थिक और सामाजिक उन्नति है। यही कारण है कांग्रेस की भूपेश बघेल की सरकार ने ग्रामीण और कृषि आधारित विकास को प्राथमिकता दी है। कोण्डागांव में मक्का प्रसंस्करण उद्योग की स्थापना कांग्रेस के विकास की सोच है। नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी योजना के माध्यम से पहले चरण में ही 2 लाख युवाओं को रोजगार देना कांग्रेस के विकास की प्राथमिकता है। राज्य के अन्नदाताओं को उनकी उपज की पूरी कीमत दिलाना विकास का पहला अध्याय है। इसीलिये छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने 2,500 रू. में धान खरीदा ताकि राज्य के सबसे बड़े वर्ग के विकास का रास्ता खुल सके। भाजपा सरकार के राज में वर्षो से खाली पड़े शहरों शिक्षकों के पद भर्ती करना कांग्रेस के विकास की प्राथमिकता है, ताकि प्रदेश की आने वाली पीढ़ी पढ़ लिख कर अपना विकास कर सके लेकिन भाजपा के भ्रष्ट विकास की सोच की प्राथमिकता में यह गैर जरूरी लगेगा।

error: Content is protected !!