कश्यप परिवार की अनदेखी भाजपा को पड़ेगी भारी : कवासी लखमा

०० बस्तर सांसद दिनेश कश्यप का टिकट कटने पर मंत्री लखमा ने साधा निशाना 

रायपुर/जगदलपुर। लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने छत्तीसगढ़ के अपने कुछ प्रत्याशियों के नामों की घोषणा की। इसी के साथ पार्टी में असंतोष के स्वर तेज हो गए। भाजपा की पहली सूची में बस्तर के 2 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा हुई। पार्टी ने बस्तर से मौजूदा सांसद दिनेश कश्यप और विक्रम उसेंडी के टिकट काट दिए हैं, इसे लेकर राजनीति शुरू हो गई है। दिनेश कश्यप का टिकट काटे जाने पर मंत्री कवासी लखमा ने तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कश्यप का टिकट कटने का उन्हें अफसोस है और कश्यप परिवार की अनदेखी भाजपा को भारी पड़ेगी। उन्हें कहा कि अब कांग्रेस को बस्तर लोकसभा में वाकओवर मिल गया है।

भाजपा ने छत्तीसगढ़ में प्रत्याशियों को लेकर बड़ा फेरबदल किया गया है। बस्तर से बैदुराम कश्यप को उम्मीदवार बनाया है जबकि कांग्रेस से मोहन मड़ावी प्रत्याशी होंगे। बस्तर के मौजूदा सांसद दिनेश कश्यप का टिकट काट दिया गया है। मीडिया से चर्चा में मंत्री लखमा ने कहा कि कश्यप परिवार की उपेक्षा की गई है। उन्होंने कहा कि दिनेश कश्यप बस्तर माटी पुत्र हैं, ऐसे में उन्हें दरकिनार करना भाजपा को भारी पड़ेगा। उन्होंने कहा- भाजपा ने चुनाव से पहले ही हथियार डाल दिए हैं। जबकि उनकी कश्यप परिवार के केदार, दिनेश, लता से दो-दो हाथ करने की इच्छा थी। अब बस्तर में कांग्रेस के पक्ष में स्थिति है, यहां लगभग कांग्रेस को वाकओवर मिलेगा। बस्तर और कांकेर लोकसभा के प्रत्याशियों को लेकर भाजपा में काफी खींचतान मची हुई थी। पार्टी ने पुराने सांसदों के टिकट काटने के संकेत पहले ही दे दिए थे। इसके बाद संभावना जताई जा रही थी कि पार्टी दिनेश कश्यप के छोटे भाई केदार कश्यप को टिकट देगी, लेकिन पार्टी ने इस परिवार से किसी को न चुनते हुए दूसरे ही कश्यप को चुना।

 

error: Content is protected !!