सत्ता के लिये गजब का चुनावी बुखार है, तड़ीपार भी लिख रहा कि वो चौकीदार है : कांग्रेस

०० विदाई की बेला में भाजपा को याद आ रहा है लोकपाल और चौकीदार की भूमिका

रायपुर। मैं भी हूं चौकीदार अभियान पर तीखा प्रहार जारी रखते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि सत्ता के लिये गजब का चुनावी बुखार है, तड़ीपार भी लिख रहा कि वो चौकीदार है। विदाई की बेला में भाजपा को याद आ रहा है लोकपाल और चौकीदार की भूमिका। देश में एक संवैधानिक चौकीदार लोकपाल के नियुक्ति की आवाज उठी थी। सरकार में आने के पहले मोदी और भाजपा ने भी लोकपाल की नियुक्ति को लेकर खूब प्रोपोगंडा किया था, पांच साल निकाल दिए संवैधानिक चौकीदार लोकपाल की नियुक्ति नहीं किये आचार संहिता लगने के बाद इसकी कवायद हुई अब सारे चोर खुद को ही चौकीदार बनने का स्वांग रच रहे है।  मैं भी हूं अन्ना के तर्ज पर मैं भी हूं चौकीदार का जो अभियान चलाने की कोशिश की जा रही है वह अन्ना अभियान की बदसूरत नकल है। सच्चाई यह है कि 2013 में कांग्रेस सरकार के द्वारा लोकपाल और लोकायुक्त विधेयक प्रस्तुत किया गया था। जिसके धारा63 के तहत एक साल के भीतर लोकपाल नियुक्त करने का प्रावधान था। विधेयक 16 जनवरी 2014 को लागू हुआ था। विगत 5 वर्षो तक मोदी जी चोरों के भागीदार और भ्रष्टाचारियों के संरक्षक बने रहे और अब विदाई की बेला में चौकीदार कहलाने की लाइन में खड़े हो गये। भ्रष्टाचार और पारदर्शिता के लिये यूपीए सरकार द्वारा लागू इस महत्वपूर्ण लोकतांत्रिक संस्था को मोदी ने अपने चंद मित्रों के फायदे के लिये रोके रखा और अब चुनाव के वक्त आचार संहिता लगने के बाद लोकपाल की नियुक्ति की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना भाजपा का केवल एक ढोंग और पाखंड है। विगत 5 वर्षो में न तो केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा और न ही भाजपा शासित राज्यों में लोकपाल विधेयक के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये कोई ठोस कदम उठाया, बस खानापूर्ति चलती रही। भाजपा शासित राज्यों में तो यह हाल है कि विगत लंबे समय से सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत मुख्य सूचना आयुक्त की नियुक्ति भी नहीं की गयी है। इनकी कथनी और करनी में बड़ा फर्क है। देश के लोकतांत्रिक संस्थानों सीबीआई, ईडी, आईटी, सुप्रीम कोर्ट में भाजपा की सरकार का अनैतिक हस्तक्षेप किसी से छुपा नहीं है। मोदी देश के तानाशाह बन बैठे है। लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश हो रही है। हाल जैसे सरकारी विभागों और कंपनियों को नुकसान पहुंचाकर निजी कंपनियों को सौपने की साजिश चल रही है। नीरव मोदी, मेहुल चौकसे, विजय माल्या जैसे लोगो को लूट की खुली छूट देकर अब चुनाव की बेला में चौकीदार बनने चले है। सारे छंटे हुए बड़ी चोरी के साझेदार एक साथ देश के “चौकीदार“ हो गए।

प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ की जनता बखूबी जानती है कि छत्तीसगढ़ में भी किसने चोरी की है, किसने भ्रष्टाचार किया है किसने इनको संरक्षण दिया है? अपने आप को चौकीदार कहने से छत्तीसगढ़ के लोग माफ नहीं करेंगे।  छत्तीसगढ़ की जनता अब इनको चौकीदार के रूप में स्वीकार नहीं करती है। चौकीदार कभी कथनी करनी में अंतर नहीं करते हैं, चौकीदार जान देकर भी चौकीदारी के कर्तव्य को बखूबी निभाते। भाजपा नेता चौकीदारों का अपमान करना बंद करें। त्रिवेदी ने कहा है कि 100 दिन में विदेशों से काला धन वापस लाने की बात कही गई, सब के खातों में 15-15 लाख आने की बात कही गई। मजबूत लोकपाल की बात कही गई। 2014 के लोकसभा चुनाव के समय दिल्ली में एक बड़ा जमावड़ा किया गया जिसमें अन्ना हजारे, बाबा रामदेव, अरविंद केजरीवाल, किरण बेदी सब शामिल थे। मैं भी हुं अन्ना के बाद मोदी बन गये प्रधानमंत्री बाबा रामदेव मसालों, तेल आटा के देश के सबसे बड़े व्यापारी केजरीवाल दिल्ली के मुख्यमंत्री बने। किरण बेदी राज्यपाल इन सबको कुछ न कुछ मिला सिर्फ देश को कुछ नहीं मिला। नीरव मोदी ने भी ‘‘मै. भी हूं चौकीदार का समर्थन किया और नरेन्द्र मोदी ने नीरव मोदी को ट्वीट करके धन्यवाद मीडिया। अपने आप को चौकीदार कहने वाले नेता की चोरी तो इसी में पकड़ी गयी।  त्रिवेदी ने पूछा है कि चौकीदार चोर है या नहीं क्या लोकसभा चुनाव इसी मुद्दे पर होगा? जनहित के अन्य मुद्दे दो करोड़ नई नौकरियां हर साल, किसान को लागत$50 प्रतिशत फसल के दाम, विदेश से कालाधन वापस लाना, सबको बैंक खाते में 15-15 लाख रूपयें, 100 स्मार्ट सिटी बनाना, राम मंदिर का निर्माण, कश्मीर में धारा 370 हटाना, गंगा को साफ करना, डालर 40 रूपये पर, लोकपाल का गठन हाशिये पर होंगे? अचानक इतने चौकीदारों को देखकर ऐसा लग रहा है देश में कितनी तरक्की हो गई है, लेकिन इनको पगार कौन देगा? इतने जवान शहीद हुए किसी भाजपा नेता ने क्यों नहीं लिखा कि मैं भी सैनिक..? एक भ्रष्ट नेता की कुर्सी बचाने के लिये सारे  भाजपाई कहने लगे मैं भी चौकीदार!

error: Content is protected !!