शिव दर्शन आध्यात्मिक मेले श्रद्धालुओं की उमड़ रही है भीड़

रायपुर। कमला दीदी प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की ओर से विधानसभा रोड पर आयोजित शिव दर्शन आध्यात्मिक मेले के उद्घाटन पर अपने विचार रख रही थीं। ब्रह्माकुमारी संस्थान की क्षेत्रीय निदेशिका ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने कहा कि महाशिवरात्रि त्यौहार परमात्मा शिव के दिव्य अवतरण का यादगार है। जब इस धरा पर चारों ओर अज्ञान अन्धकार छाया होता है और मनुष्यात्माएं काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार रूपी विकारों के वशीभूत हो जाती हैं। तब ऐसे अतिधर्मग्लानि के समय पर मनुष्यों को निर्विकारी और पवित्र बनाने के लिए परमात्मा शिव का दिव्य अवतरण इस धरा पर होता है।
उन्होंने विश्व में अलग-अलग धर्मों में परमात्मा के बारे में प्रचलित मान्यताओं को स्पष्ट करते हुए बताया कि सर्व शक्तिवान परमात्मा एक है। उनका रूप ज्योर्तिंबिन्दु के समान है, जिसे सभी धर्मों में स्वीकार किया गया है।  शिवरात्रि से संबंधित रिवाजों को स्पष्ट करते हुए ब्रह्माकुमारी कमला दीदी ने बताया कि शिवलिंग पर पानी मिश्रित दूध और दही की धार टपकाने का अभिप्राय है कि हम अपनी बुद्धि का तार सतत् रूप से परमात्मा से जोड़कर रखें। बेलपत्र चढ़ाने का तात्पर्य है कि परमात्मा के प्रति समर्पित भाव रखें और अाक, धतूरा जैसे सुगन्धहीन और कांटेदार फूल भेंट करने का रहस्य है कि अपनी बुराइयों और विकारों को जो कि हमें दुख पहुंचाते हैं। परमात्मा को अर्पित कर निर्विकारी और पवित्र बनें। इसी प्रकार सिर्फ एक रात जागने से अविनाशी प्राप्ति नहीं होगी बल्कि अब तो कलियुग रूपी महारात्रि चल रही है, उसमें आत्मा को ज्ञान की ओर से जागृत करना ही सच्चा जागरण है।
प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की ओर से विधानसभा रोड पर आयोजित शिव दर्शन आध्यात्मिक मेले के उद्घाटन के बाद बड़ी संख्या में लोग इसे देखने के लिए पहुंच रहे हैं। मेले में बहुरंगी चित्रों और कलात्मक मूर्तियों के माध्यम से आत्मा, परमात्मा और राजयोग की शिक्षा दी जा रही है। यहां पर समझाने के लिए गाईड की भी व्यवस्था रखी गई है।

error: Content is protected !!