जनहित के कार्यों में मिलती है सच्ची संतुष्टि :  भूपेश बघेल 

०० ग्राम झींट और बोरवाय के मानसगान कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्यमंत्री

रायपुर| मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड के ग्राम झींट और बोरवाय में आयोजित मानसगान कार्यक्रम में शामिल हुए। उन्होंने इस मौके पर रामायण के विभिन्न दृष्टांतों का उल्लेख करते हुए कहा कि लोगों की भलाई करने में ही सच्ची संतुष्टि मिलती है। स्वामी विवेकानंद के विचारों को उदृद्धत करते हुए उन्होंने कहा कि ‘नर में ही नारायण है’। मनुष्य की सेवा ही ईश्वर की सेवा करने के समान है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र भी जनता की भलाई का समुचित मार्ग है।

मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि नई सरकार जनता से किए गए वायदों पर तेजी से अमलीजामा पहनाने का कार्य कर रही है। राज्य सरकार सभी वर्गों की जरूरतों के अनुरूप योजनाएं तैयार बना रही हैं। हमारा मुख्य फोकस कृषि को आधार बनाकर रोजगार बढ़ाने तथा किसानों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य दिलाने का है। उन्होंने कहा कि नरवा, गरूवा, घुरूवा अउ बारी के माध्यम से गांव का विकास किया जा रहा है। गौठान के लिए भूमि चिन्हित करने के साथ ही गायों के लिए यदि हम गौठान और चारे की व्यवस्था करा देते हैं और पशु नस्ल सुधार के लिए काम करते हैं तो हमारी ग्रामीण अर्थव्यवस्था में बड़ा परिवर्तन आएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि खेती-किसानी को बढ़ावा देने हम हर संभव उपाय करेंगे। कर्जमाफी से लाखों किसानों के चेहरे में रंगत आई है। पूरे देश में छत्तीसगढ़ ने 2500 रुपए धान का समर्थन मूल्य देकर किसानों के हित में ऐतिहासिक पहल की है। यह मेहनतकश किसानों को उनके श्रम का वाजिब मूल्य मिलने पर चेहरे में जो खुशी आई है, वही सरकार का सच्चा संतोष है।

 

error: Content is protected !!