कोटा विधानसभा में स्थानीय और बाहरी प्रत्याशियों के होड़ में क्या युवा वर्ग को मौका देगी कांग्रेस

०० शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में अच्छी पैठ और अच्छा जनसंपर्क युवा चेहरा कुलवंत सिंह को बनाएगी कोटा विधानसभा का उम्मीदवार
०० कोटा विधानसभा में सभी दावेदारो पर भारी पड़ेंगे शैलेश पांडे, या डॉ. रेणु जोगी की होगी वापसी
?

संजय बंजारे 

करगीरोड कोटा | वर्तमान समय में राजनीतिक परिस्थितियां कोटा विधानसभा में बार-बार करवटें लेती दिखाई पड़ रही है, राजनीतिक हलचलें तेज और राजनीतिक बिसात नित नए-नए बिछाए जा रहे हैं, कांग्रेस का गढ़ कहे जाने वाले कोटा विधानसभा में दूसरे राजनीतिक दल जो कि कोटा विधानसभा में विपक्ष की भूमिका में है ,उनके लिए गढ़ तोड़ पाना आजादी के बाद से ही टेढ़ी खीर रही है, पर वर्तमान परिस्थितियों में कांग्रेस के गढ़ को कहीं विपक्षी दलों के अपेक्षा पार्टी के अंदर कांग्रेसियों से ही खतरा ना हो जाए कांग्रेस अपना किला विपक्षी दलों से बचाते हुए कहीं पार्टी के अंदर विरोधी गुट के रुसवाइयों से कांग्रेस का मजबूत किला कहीं धवस्त ना हो जाए।
वर्तमान विधायिका रेणु जोगी  की कांग्रेस पार्टी में पूछ परख कम होने के बाद कोटा विधानसभा में दावेदारों की लाइन लग गई कांग्रेस के स्थानीय उम्मीदवार के नाम पर 17 लोगों ने दावेदारी पेश कर डाली, राहुल गांधी के रायपुर प्रवास के दौरान उनके द्वारा यह कहना की पैराशूट से प्रत्याशी नहीं उतारे जाएंगे जमीनी कार्यकर्ताओं को महत्व दिया जाएगा, इस बात से कोटा विधानसभा में दावेदारी कर रहे उम्मीदवारों की बांछे खिल गई थी ,वह अभी भी उम्मीद कि आस लगाए बैठे हैं,वर्तमान परिस्थितियों में वर्तमान विधायिका डॉ रेणु जोगी के बाद शिक्षाविद से नेता बने शैलेश पांडे को मजबूत दावेदार बताया जा रहा है, उसके अलावा यह भी कयास लगाया जा रहा है,की स्थानीय दावेदारों की उम्मीदवारी को देखते हुए आलाकमान अंतिम समय में डॉ रेणु जोगी को भी कांग्रेस की टिकट दे सकता है, बीच में नेता प्रतिपक्ष टी.एस.सिंहदेव देव का बयान आना की डॉ. रेणु जोगी को कांग्रेस टिकट दे सकती है,इस बात की पुष्टि करता है,वैसे भी कांग्रेस की परंपरा रही है,अंतिम समय तक बी फार्म किसके नाम से आ जाए कुछ कहा नहीं जा सकता। कोटा विधानसभा में स्थानीय दावेदारों की बात की जा रही है, और दावेदार भी दमदार तरीके से दमदारी कर रहे हैं,संदीप शुक्ला वादिर खान ,अरुण चौहान विभोर सिंह ,नीरज जायसवाल, के अलावा कोटा नगर का ही जाना पहचाना युवाओं के बीच अच्छी पैठ शहरी-क्षेत्रों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी अच्छा जनसंपर्क कोटा विधानसभा के भीष्म पितामह स्वर्गीय डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद शुक्ल के समय से ही राजनीति में सक्रिय होने वाले, युवा वर्गों की कमान संभालने वाले कुलवंत सिंह ठाकुर ने भी कोटा विधानसभा से दावेदारी की है, पिछले नगर पंचायत चुनाव में नगर पंचायत अध्यक्ष के मजबूत दावेदार जिनकी टिकट भूपेश बघेल की गाड़ी में बैठने के वजह से कट गई थी वर्तमान में टी.एस. सिंहदेव और भूपेश बघेल के काफी करीब ब्लॉक कांग्रेस कमेटी में पदाधिकारी कुलवंत सिंह ठाकुर पर क्या प्रदेश कांग्रेस कमेटी दांव खेलेगी पिछले नगर पंचायत चुनाव में अजीत जोगी के धुर विरोधी रहे भूपेश बघेल के साथ गाड़ी में बैठना कुलवंत सिंह ठाकुर को महंगा पड़ा था, जिसकी वजह से नगर पंचायत अध्यक्ष का टिकट कटवा बैठे कुलवंत सिंह पर भूपेश बघेल या टी एस बाबा मोहर लगाएंगे,क्या उस समय की कुर्बानी का फल इस बार कोटा विधानसभा में उम्मीदवार के रूप में मिलेगा या फिर कांग्रेस पार्टी को जैसे जाना जाता है,अंतिम समय में धमाका करने के लिए वैसा ही अंतिम समय तक कुछ नहीं कहा जा सकता वाली परंपरा लागू रहेगी ,जैसा कि राहुल गांधी ने भी अपने उद्बोधन में कहा की जमीनी कार्यकर्ता और खासकर युवा वर्ग को ध्यान में रखते हुए विधानसभा में टिकट दिया जाएगा।

 

error: Content is protected !!