विकास के नये-नये कीर्तिमान स्थापित कर रहा जशपुर जिला : डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री ने 138 करोड़ रूपये के विभिन्न कार्यों की दी सौगात

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि जशपुर जिला विकास के नये-नये कीर्तिमान स्थापित कर रहा है, जिसमें बगीचा क्षेत्र का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है।  डॉ.सिंह ने यह विचार आज यहां जनपद पंचायत मुख्यालय बगीचा के खेल मैदान में आयोजित’’अटल विकास यात्रा’’ में  व्यक्त किये। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लगभग 138 करोड़ 23 लाख रूपये से अधिक के विकास कार्याे की सौगात दी। इनमें 65 करोड़ 98 लाख रूपये की लागत के 61 विभिन्न निमार्ण कार्यों का भूमिपूजन और 56 करोड़ रूपये की लागत के 284 विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकार्पण किया गया। मुख्यमंत्री ने आमसभा में विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 46 हजार911 हितग्राहियों को 16 करोड़ 20 लाख रूपये की राशि की सामग्री वितरित की। 


मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि विकास को और नई उंचाईयों की ओर ले जाने के लिए 5 सितम्बर से डांेगरगढ़ से ’’अटल विकास यात्रा’’ शुरू की गई है। यह विकास की यात्रा है, छत्तीसगढ़ के विकास की परिकल्पना की यात्रा है और मैं इसे तीर्थ यात्रा कहता हूॅं। उन्होंने कहा कि कभी विकास में पीछे कहे जाने वाला जशपुर जिला आज विकास के अनेक क्षेत्रों में आगे है। जशपुर जिले के बच्चों ने भी अपनी प्रतिभा का परिचय दिया है, यहां के बच्चे मेडिकल कॉलेज, आईआई.टी और एनआईटी में अध्ययन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जशपुर जिले के बच्चों ने कौशल उन्नयन के क्षेत्र में भी अच्छा कार्य किया है और देश के अन्य राज्यों में भी जाकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जशपुर जिले में कुपोषण दर कम करने की दिशा में भी अच्छा कार्य किया गया है। कुपोषण दर जो पहले 43 प्रतिशत थी, वह अब घटकर 27 प्रतिशत रह गई है। इसी तरह टीकाकरण और संस्थागत प्रसव के क्षेत्र में भी अच्छा कार्य हुआ है। मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने कहा कि सौभाग्य योजना के तहत प्रदेश के 7 लाख 40 हजार घरों में बिजली पहुुचाई जायेगी और कोई मजरा-टोला तथा पारे  विद्युत विहीन नहीं रहेगा। उन्होंने कहा कि सौभाग्य योजना का सबसे ज्यादा लाभ जशपुर जैसे पहाड़ी क्षेत्र के लोगों को मिलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि तेंदूपत्ता की संग्रहण दर पहले 450 रूपये थी, जिसे बढ़ाकर 2500 रूपये कर दिया गया है। तेंदूपत्ता संग्राहकों को बोनस भी दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा इस वर्ष धान का समर्थन मूल्य 200 रूपये प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है। जिससे धान का समर्थन मूल्य 1700 रूपये से अधिक हो गया है। राज्य सरकार द्वारा समर्थन मूल्य पर धान खरीदी पर प्रति क्विंटल 300 रूपये बोनस राशि दी जाएगी। उन्हांेने बताया कि राज्य सरकार ने 40 यूनिट से अधिक बिजली खर्च करने वाले सहज बिजली योजना में प्रदेश के 12 लाख गरीब परिवारों को राहत देने का निर्णय लिया है। उन्हें फ्लैट रेट पर अब केवल 100 रूपये प्रतिमाह बिजली का भुगतान करना होगा। उन्होंने बताया कि जशपुर जिले में2500 से अधिक सोलर पंप स्थापित किए जा चुके हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि 40 लाख बहनों को स्काई योजना के तहत स्मार्ट फोन प्रदान किया जा रहा है, जो महिला सशक्तिरण का बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीबों को बड़ी बीमारियांें के इलाज के लिए 5 लाख रूपये तक की सहायता मिलेगी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रस्तुत मांगों के संबंध में उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है। मुख्यमंत्री ने इसके पहले सभा स्थल पर विभिन्न विभागों द्वारा लगायी गई विकास प्रदर्शनी का अवलोकन किया। विधायक और सरगुजा एवं दक्षिण क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री राजशरण भगत ने कहा कि आज गांव-गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्के आवास बनाए जा रहे हैं। इसके साथ ही शौचालयों का निर्माण कराया जा रहा है। उन्हांेने कहा कि स्कूलों में बच्चों को पढ़ाई के साथ ही मध्यान्ह भोजन की सुविधा मिल रही है। उन्होंने स्थानीय समस्याओं की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट किया। इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने स्वागत भाषण देते हुए जशपुर जिले का प्रगति प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। उन्होंने बताया कि आज 41 हजार 737 वनवासियों को 15 करोड़ 78 लाख रूपये का तेंदूपत्ता बोनस, उज्ज्वला योजना के तहत 5 हजार महिलाओं को गैस कनेक्शन, 500 स्वं सहायता समूहों को 5 लाख रूपये का अनुदान, श्रम विभाग द्वारा 36 लोगों को 1 लाख रूपये का अनुदान, स्काई योजना के तहत महिलाओं को मोबाईल फोन का वितरण, 7किसानों को 5 हार्स पॉवर के सबमर्सिबल पंप वितरित किए गए हैं।  राज्यसभा सदस्य श्री रणविजय प्रताप सिंह जूदेव, खादीग्रामोद्योग बोर्ड के अध्यक्ष श्री कृष्ण कुमार राय, संसदीय सचिव श्री शिवशंकर पैकरा, कुनकुरी विधाायक श्री रोहित साय, बनोपज बोर्ड के अध्यक्ष श्री भरत साय, जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती गोमती साय, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री प्रबल प्रताप सिंह जूदेव, मुख्यमंत्री के सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह, सरगुजा संभाग के कमिश्नर श्री टामन सिंह सोनवानी और पुलिस महानिरीक्षक श्री हिमांशु गुप्ता सहित अनेक जनप्रतिनिधि तथा बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।

error: Content is protected !!