नौजवान छत्तीसगढ़ वर्ष 2025 में मनाएगा अपनी रजत जयंती : डॉ. रमन सिंह

०० राज्य सरकार ने तैयार किया नवा छत्तीसगढ़ 2025’ की परिकल्पना के साथ अटल दृष्टि पत्र’ – जनता से भी लिए जाएंगे सुझाव

०० अटल जी को समर्पित रहेगा विकास यात्रा का दूसरा चरण, अटल दृष्टि पत्र में राज्य के विकास के लिए कई संकल्प

०० जीएसडीपी दोगुनी होगी, वर्ष 2022 तक प्रत्येक परिवार का होगा अपना मकान, राज्य में होगी शत-प्रतिशत साक्षरता

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी के हाथों निर्मित छत्तीसगढ़ राज्य वर्ष 2025 में नौजवान छत्तीसगढ़ के रूप में अपनी रजत जयंती मनाएगा। उन्होंने आज कहा – इसे ध्यान में रखकर राज्य सरकार ने ‘नवा छत्तीसगढ़ 2025’ की परिकल्पना को साकार करने का संकल्प लेकर ‘अटल दृष्टि पत्र’ तैयार किया है। इसमें नागरिकों के सुझाव भी लिए जाएंगे और प्रदेशवासियों के विचारों के अनुरूप नवा छत्तीसगढ़ 2025 के निर्माण की परिकल्पना को और भी ज्यादा बेहतर ढंग से संशोधित किया जाएगा। नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए प्रत्येक छत्तीसगढ़िया कंधे से कंधा मिलाकर चलेगा।
डॉ. सिंह ने कहा कि दुनिया जानती है कि जब छत्तीसगढ़ की जनता कोई संकल्प लेती है तो उसे पूरा करने से कोई नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा – नवा छत्तीसगढ़ का सपना हम सब मिलकर पूरा करेंगे और यह प्रदेशवासियों की तरफ से छत्तीसगढ़ राज्य निर्माता अटल जी को एक सच्ची श्रद्धांजलि होगी। डॉ. सिंह ने कहा – छत्तीसगढ़ राज्य के निर्माण में अटल जी की केन्द्रीय भूमिका थी, वहीं वे एक अभिभावक के रूप में सदैव हमारे मार्गदर्शक भी रहे। प्रदेश के विकास में उनके अभूतपूर्व योगदान को नमन करते हुए छत्तीसगढ़ सरकार ने तीन मुख्य कदम उठाने का निर्णय लिया है। पहला कदम ‘नवा छत्तीसगढ़ 2025’ की परिकल्पना के लिए अटल दृष्टि पत्र का निर्माण और नवा छत्तीसगढ़ निर्माण के उद्देश्य के साथ अटल विकास यात्रा तथा अटल नगर (नया रायपुर) में पांच एकड़ के रकबे में एक भव्य ‘अटल स्मारक’ का निर्माण। अटल नगर (नया रायपुर) की पहचान के रूप में एक लैण्ड मार्क होगा। स्मारक के निर्माण के लिए प्रदेश के हर गांव से मिट्टी एकत्रित की जाएगी। अटल स्मारक में उनकी मूर्ति के साथ संग्रहालय, पुस्तकालय आदि की भी व्यवस्था रहेगी। मुख्यमंत्री ने कहा – राज्य निर्माण के बाद विगत 15 वर्षों में हमने विगत 15 वर्ष में विकास कार्यों में जिस तरह की निरंतरता दिखाई है, उसके परिणाम स्वरूप आज छत्तीसगढ़ देश के सबसे प्रगतिशील राज्यों की सूची अपनी अगल पहचान बना चुका है। राज्य के विकास की यात्रा तो अभी सिर्फ शुरू हुई है। जबकि हमें अभी और भी कई नये मुकाम हासिल करने हैं। इसके लिए ही छत्तीसगढ़ के रजत जयंती वर्ष 2025 को केन्द्र में रखकर कई संकल्पों के साथ अटल दृष्टि पत्र की परिकल्पना की गई है। उन्होंने बताया कि अटल दृष्टि पत्र में शामिल संकल्पों के अनुसार अगले सात वर्ष में याने कि वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ को एक स्मार्ट और हरित राज्य बनाने का संकल्प हैं, जहां प्रत्येक नागरिक सशक्त और खुशहाल होगा और जहां प्रदेश का सकल राज्य घरेलू उत्पाद अर्थात जीएसडीपी दोगुनी हो जाएगी। इतना ही नहीं बल्कि प्रति व्यक्ति औसत वार्षिक  आमदनी के मामले में छत्तीसगढ़ देश के पांच शीर्षस्थ राज्यों की श्रेणी में शामिल हो जाएगा।  मुख्यमंत्री ने कहा – नवा छत्तीसगढ़ के निर्माण के लक्ष्य को ध्यान में रखकर विकास यात्रा का दूसरा चरण पांच सितम्बर से शुरू होगा। राज्य निर्माता स्वर्गीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में यह विकास यात्रा उन्हें समर्पित रहेगी और पांच अक्टूबर तक चलेगी। इस यात्रा के माध्यम से हम सभी 27 जिलों तक पहुंचेंगे। इस दौरान 62 से ज्यादा विधानसभा क्षेत्रों में 42 आम सभाएं होेंगी और 38 स्वागत सभाओं तथा स्वागत कार्यक्रमों के पड़ाव होंगे। विकास यात्रा का दूसरा चरण लगभग छह हजार किलोमीटर का होगा। इस दौरान तेन्दूपत्ता संग्राहकों को करीब 700 करोड़ का बोनस भी दिया जाएगा। डॉ. सिंह ने कहा कि अटल विकास यात्रा के दो प्रमुख लक्ष्य होंगे – पहला राज्य सरकार की उपलब्धियों को जनता के बीच लेकर जाना और नवा छत्तीसगढ़ 2025 के दृष्टि पत्र में जनता के विचारों को शामिल करना। इसके साथ ही प्रदेश के कोने-कोने तक जाकर सरकार के काम-काज का लेखा-जोखा जनता के सामने रखना। मुख्यमंत्री ने बताया कि अटल दृष्टि पत्र के अनुसार वर्ष 2022 तक सभी छत्तीसगढ़ वासियों का स्वयं का मकान होगा और प्रत्येक नागरिक को गुणवत्तापूर्ण तथा किफायती स्वास्थ्य देख-भाल का अधिकार भी होगा। किसानों की आमदनी दोगुनी कर उन्हें सशक्त बनाया जाएगा और खेती में आधुनिक तकनीकों का इस्तेमाल कृषि उत्पादन को बढ़ाया जाएगा।  उन्होंने बताया कि अटल दृष्टि पत्र के अनुसार वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ शत-प्रतिशत साक्षर हो जाएगा और शत-प्रतिशत बच्चे स्कूलों में दाखिला लेंगे। इसके साथ ही अपने रजत जयंती वर्ष के आने तक छत्तीसगढ़ शिक्षा गुणवत्ता के मामले में भी देश के पांच शीर्षस्थ राज्यों की श्रेणी में आ जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा – अटल दृष्टि पत्र के संकल्पों के अनुसार वर्ष 2025 तक छत्तीसगढ़ में 15 प्रतिशत से भी कम लोग गरीबी रेखा से नीचे होंगे और वर्ष 2030 तक गरीबी का उन्मूलन भी कर दिया जाएगा। सभी नागरिकों के लिए शुद्ध पेयजल, टेलीफोन सम्पर्क, बेहतर स्वच्छता की सुविधा मिलने लगेगी। कचरा निपटान की भी बेहतर व्यवस्था होगी और प्रदेश के शत-प्रतिशत आंगनबाड़ी केन्द्रों और स्कूलों को शुद्ध पेयजल मिलने लगेगा। मुख्यमंत्री ने बताया कि अटल दृष्टि पत्र के अनुसार वर्ष 2025 तक प्रमुख शहरों के लिए हवाई यातायात की सुविधा सहित दस हजार किलोमीटर अतिरिक्त सड़कों और 1300 किलोमीटर अतिरिक्त रेल मार्गों का भी निर्माण करने का संकल्प है। अपने रजत जयंती वर्ष के आने तक छत्तीसगढ़ भारत में निवेश और उद्यमिता के क्षेत्र में पहले नम्बर का गंतव्य और अग्रणी निर्यात केन्द्रों में से एक होगा। वर्ष 2025 तक राज्य भारत के अग्रणी पर्यटन गंतव्य के रूप में और हरित पर्यावरण मित्र राज्य के रूप में पहचाना जाएगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की महिलाएं सुरक्षित, अधिकार संपन्न, सुशिक्षित, स्वतंत्र होंगी और राज्य के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान देंगी।

 

error: Content is protected !!