बिलासपुर की हवाई सेवा के लिए डॉ. मनीष राय का प्रयास जारी

 

सागर सोनी (बिलासपुर) विगत दिनों नई दिल्ली में केंद्रीय मंत्री डॉ.सुरेश प्रभु नागरिक उड्डयन वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री के साथ बिलासपुर की बहुप्रतीक्षित मांग एयरपोर्ट के लिए बिलासपुर के भाजपा नेता एवं अखिल भारतीय सदस्य, माधव नेत्रालय नागपुर, संयोजक माय होम बिलासपुर, डॉ. मनीष राय ने मुलाकात की छत्तीसगढ़ राज्य बनने के 18 वर्षों बाद भी बिलासपुर शहर रायपुर के बाद सबसे दूसरा बड़ा शहर है जो न्यायधानी के रूप में प्रसिद्ध है राय ने सुरेश प्रभु से कहा कि मेरा बिलासपुर बड़े बड़े उद्योगो जैसे एसईसीएल, रेलवे, NTPC, हाई कोर्ट ,वर्धा पावर प्लांट और ऐसे कुछ छोटे-छोटे उद्योग भी है जो बिलासपुर को विकास के पथ पर ले जाने के लिए तत्पर हैं, मगर बिलासपुर हवाई सेवा से ना जुड़ पाने के कारण यहां पर बड़ी बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियां, शिक्षा के बड़े संस्थान एवं बड़े अस्पताल वाले आना नही चाहते है। जिससे यहां पर बिलासपुर में शिक्षा रोजगार एवं स्वास्थ्य सेवाओं की कमी विगत 18 वर्षों से निरंतर बनी हुई है यही प्रमुख कारण है जिसकी वजह से मेरा बिलासपुर रायपुर शहर से कई गुना पिछड़ चुका है अतः मेरा निवेदन है कि स्थानीय प्रशासनिक समस्याओं को ज्यादा ना ध्यान देते हुए जनता की भावनाओं का ख्याल रखते हुए एवं उनके भविष्य का ध्यान रखते हुए हवाई सेवा की शुरुआत तत्काल एवं त्वरित प्रारंभ की जाए क्योंकि कहीं ना कहीं स्थानीय प्रशासन की लेटलतीफी एवं लचर व्यवस्था मेरे बिलासपुर में हवाई सेवा को आने से रोक रही है और साथ ही कमजोर नेतृत्व क्षमता वाले लोग जो अपनी बात को राष्ट्रीय स्तर पर नहीं रख पाते और अपने स्वार्थ से ऊपर नहीं उठ पाते है इन सब लोगों को दरकिनार करते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी की सोच को सिद्ध करते हुए सबका साथ सबका विकास के मार्ग पर चलते हुए मेरे बिलासपुर को जल्द से जल्द हवाई सेवा से जोड़ा जाए जिससे मेरा बिलासपुर भी प्रगति व विकास के पथ पर आगे बढ़ सके यह सब बातें सुनकर सुरेश प्रभु ने डॉ मनीष राय को हाथ पकड़कर पूर्ण आश्वासन देते हुए विश्वास दिलाया कि 30 सितंबर से पहले पहले बिलासपुर हवाई सेवा से जुड़ जाएगा इसी प्रकार बिलासपुर से जुड़े हुए मुद्दों चाहे वह रेलवे ,एसईसीएल या कोई भी जनहित के मुद्दे हो डॉ. मनीष राय प्रदेश एवं राष्ट्रीय स्तर पर तत्परता से उठाने का काम बिलासपुर के लिए एवं जनता के लिए निरंतर करते आ रहे हैं जिसका परिणाम है कि इन्हीं की मांग की वजह से सुरेश प्रभु जब रेल मंत्री थे राय की मांग पर छत्तीसगढ़ से इंदौर के लिए वाया नागपुर होते हुए एक ट्रेन चलाने की मांग की थी जो रेल मंत्रालय ने स्वीकार कर ली है इसी प्रकार कोयला मंत्रालय में भी पीयूष गोयल से मिलकर भू विस्थापितों की समस्याओं को प्रमुखता से राय ने उठाया था जिसे निराकरण हेतु जांच समिति बनाकर कई लोगों की समस्याओं का समाधान हो चुका है।

error: Content is protected !!