डेंगू से लडऩे सरकार पूरी तरह तैयार : अजय चंद्राकर

०० केन्द्रीय जांच दल पहुंचा डेंगू प्रभावित क्षेत्र में भिलाई  

रायपुर। छत्तीसगढ़ में फैले डेंगू के प्रकोप पर रविवार सुबह स्वास्थ्य मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में कहा कि सरकार पूरी तरह से डेंगू से निबटने के लिए तैयार है। वहीं दूसरी तरफ भिलाई के डेंगू प्रभावित क्षेत्र में केन्द्रीय जांच दल ने शिविर लगाकर मच्छरों के लार्वा और मच्छर फैलने वाले स्थानों की जांच कर रही है।
केंन्द्रीय टीम में नेशनल सेंटर फॉर डिसीस कंट्रोल के दिल्ली से सहायक निदेशक डॉ. अमर भदौरिया और जगदलपुर की टीम शामिल है। डेंगू की कहर का निरीक्षण करने पहुंचे केंद्रीय टीम के सदस्य भिलाई के कई छावनियों में पड़ताल कर रहे हैं। केंद्रीय टीम बढ़ते डेंगू के प्रकोप की बातें और लगातार मौत के मामले सुनकर हैरान है।  स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने आम लोगों के सतर्कता बरतने की अपील की है। रविवार की सुबह अपने आवास में अजय चंद्राकर ने कहा कि सरकार डेंगू से निपटने के लिए पूरी ताकत से लगी हुई है और वो नियंत्रण में भी है, लेकिन लोगों को भी डेंगू व मच्छर से बचाव के लिए सतर्क रहने की जरूरत है।  उन्होंने कहा कि दुर्ग-भिलाई के 30 निजी अस्पतालों में भी डेंगू के मरीजों के इलाज का निर्देश जारी किया गया है। इसके अलावा जिला और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में इलाज चल रहा है। एनआरएचएम ने भी कैंप लगा रखा है। अजय चंद्राकर ने कहा कि डेंगू से बचाव के लिए पूरे प्रदेश में व्यापक जनजागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है, उन्होंने इसके लिए मीडिया से भी सहयोग की अपील की।  डेंगू के बेकाबू होने और बेहतर इलाज ना होने को लेकर तरह-तरह के उठ रहे सवालों पर चंद्राकर ने कहा कि सरकार ने इलाज के लिए संजीवनी योजना के नियमो को भी शिथिल कर दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार का एकमात्र उद्देश्य ये है कि एक भी मरीज डेंगू के इलाज से वंचित ना हो।  उन्होंने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों को सख्त निर्देश दिया गया है कि वो सहयोग करें, अगर ऐसा नहीं होगा, सरकार कार्रवाई करेगी। उन्होंने डेंगू को महामारी मानने से इंकार किया, उन्होंने कहा कि डेंगू महामारी नहीं है क्योंकि स्थिति नियंत्रण में है। वहीं अस्पतालों में कार्डिनेटर बनाए गए हैं जो मरीजों का इलाज कराने में सहयोग कर रहे हैं।

 

error: Content is protected !!