अजीत जोगी ने सबको प्यार और सम्मान दिया लेकिन जो स्वार्थ से आता है वो स्वार्थ के लिए जाता भी है : अमित जोगी

०० समंदर से दो लोटा पानी निकालकर भागने वाले समंदर बनने का ख्वाब देख रहे हैं : अमित जोगी 

०० 41 सीटों की घोषणा के बाद 4-5 ने JCCJ छोड़ी, BJP और कांग्रेस की एक-एक सीट की घोषणा पर 41- 41 उनको छोड़ेंगे : अमित जोगी 

०० जोगी जी के हलऔर जनबल के सामने धनबल, सत्ताबल और दलाल-बल से हो रही दलबदल की कोशिशें होंगी विफल : अमित जोगी

रायपुर|  चुनाव पूर्व आया राम- गया राम दौर शुरू होने को मरवाही विधायक अमित जोगी ने स्वाभाविक बताते हुए कहा कि जोगी जी सबको अपने परिवार के सदस्य की तरह जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) में प्यार और सम्मान देते हैं लेकिन जो स्वार्थ के लिए आता है वो स्वार्थ के लिए ही जाता है। ऐसे लोगों का ईमान और धर्म केवल पद और पैसा होता है। छत्तीसगढ़ की जनता इस तरह की प्रवृत्ति के लोगों को उनका सही स्थान दिखाना भली भाँति जानती है।

विधायक अमित जोगी ने कहा कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) सुप्रीमो अजीत जोगी, उनका विशालकाय जनाधार और उनकी “छत्तीसगढ़ फ़र्स्ट” विचारधारा, एक समंदर है। चुनाव पूर्व समंदर से दो लोटा पानी निकालकर भागने वाले कुछ लोग स्वयं समंदर बनने का ख्वाब देख रहे हैं।  अमित जोगी ने बताया कि अभी तक जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) 41 सीटों में अपने प्रत्याशी घोषित कर चुकी है और मुश्किल से ४-५ पार्टी के पदाधिकारियों ने टिकट न मिलने के कारण जोगी जी का साथ छोड़ा है। जब भाजपा और कांग्रेस अपने प्रत्याशियों की घोषणा करेगी, तो हर सीट में कम से कम 41-41 पदाधिकारी उनको छोड़ेंगे। यही कारण है कि जनता के बीच जाकर प्रचार करने के बजाय दोनों दल अपने ही लोगों से शपथपत्र भरवाने और मीटिंग करने में ज़्यादा व्यस्त नज़र आते हैं। स्पष्ट दिख रहा है कि दोनों राष्ट्रीय दल अपने प्रत्याशियों की घोषणा करने में डर रहे हैं। भाजपा और कांग्रेस, दोनों जोगी जी के जनबल से भयभीत होकर धनबल, सत्ताबल और दिल्ली और नागपुर से आयातित अपने कुछ दलालों के दलाल-बल के सहारे जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) में दलबदल करवाने की लगातार कोशिशें कर रहे हैं। लेकिन जोगी जी के “हल चलाता किसान” के आगे दोनों दल ख़ुद ही दलबदल के दल-दल में फँस कर डूबेंगे।

 

error: Content is protected !!