बिल्हा विधानसभा में पहली बार होगा राजनैतिक दलों का कड़ा मुकाबला

सागर सोनी

बिलासपुर| जहाँ वर्तमान में कांग्रेस से जीत हासिल कर विधायक पार्टी से बगावत करने वाले विधायक सियाराम कौशिक जीत का ताज दुबारा पहनने के लिए क्षेत्र में राजनीतिक रणनीति के तहत गतिविधियों को अमलीजामा पहनाने में लगातार जद्दोजहद कर रहे हैं तो दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व बिल्हा विधायक एवं विधानसभा अध्यक्ष रह चुके धरमलाल कौशिक 2013 के चुनाव में कांग्रेस से करारी हार झेलने के बाद फिर से विधायक का चुनाव जीतने के लिए तैयारी कर रखी है। जबकि बिल्हा विधानसभा के लिए कांग्रेस पार्टी ने अभी तक अपने उम्मीदवार का पत्ता नहीं खोला है परंतु बिल्हा सीट के दावेदारों के नामों पर अटकलें लगाई जा रही हैं। क्षेत्र में मजबूत पकड़ रखने वाले जिन जानेमाने नामों पर विचार किया जा रहा है उनमें मुख्य रूप से राजेन्द्र शुक्ला, विजय वर्मा, जागेश्वरी वर्मा, ज्वाला कौशिक, अम्बालिका साहू एवं बिलासपुर की पूर्व मेयर श्रीमती वाणी राव जैसे नाम प्रमुख हैं  वहीं पहली बार प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों में चुनाव लड़ रही आम आदमी पार्टी द्वारा पार्टी के लोकसभा अध्यक्ष सरदार जसबीर सिंह पर भरोसा जताया गया है जिन्होंने बिल्हा क्षेत्र में अपनी गतिविधियों से विधायक के दावेदारों में स्वयं को साबित कर क्षेत्र की राजनीति में भूचाल सा ला दिया है।

 

छत्तीसगढ़ की बिल्हा विधानसभा सीट पर वर्ष 2013 में कांग्रेस पार्टी के सियाराम कौशिक ने जीत हासिल की थी जिन्होंने क्षेत्र के जाने माने नेता धरमलाल कौशिक को हराया था परंतु पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की नवगठित पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस बनने के बाद सियाराम कौशिक ने कांग्रेस से बगावत करते हुए जनता कांग्रेस में स्वयं शामिल हो गये हैं, जिससे प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। भारतीय जनता पार्टी के पूर्व विधायक एवं प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक का बीजेपी की टिकट से बिल्हा विधानसभा में चुनाव लडऩा लगभग तय माना जा रहा है। पिछले चुनाव में करारी हार झेलने के बाद पार्टी ने उन्हें प्रदेश अध्यक्ष के पद पर बैठा तो दिया लेकिन शासन की ओर से बिल्हा क्षेत्र में वे विकास की गंगा बहाने में असमर्थ रहे हैं। कांग्रेस पार्टी से बिल्हा विधानसभा के लिए दावेदारी करने वालों की सूची में सबसे पहला नाम राजेन्द्र शुक्ला का है,इनकी पत्नी पूर्व नगर पंचायत जबकि कांग्रेस के ग्रामीण अध्यक्ष के पद पर भी रह चुके है,, दूसरा नाम पथरिया ब्लॉक के पंचायत नेता घनश्याम वर्मा की पत्नी जागेश्वरी वर्मा का है जो टिकट की दावेदारी में दूसरे पायदान पर हैं। विश्वस्त सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार कांग्रेस से बिलासपुर की पूर्व महापौर वाणी राव ने भी बिल्हा से दावेदारी करने की बात कही है  वही जनता के दिल और जुबान पर अभी एक नाम और युवा नेता का चल रहा है और जिसने अपने सरल स्वभाव और आम जनता के लिए 24 घंटे सदैव समर्पित रहकर कार्य किया है वह नाम है विजय भा इनकी अपनी एक अलग पहचान है इसे सभी विजय भां ही पुकारते है वैसे इनका नाम विजय वर्मा है ये पहचान के मोहताज नही है सबके दिलों पे राज करने वाले विजय भा  वर्तमान में यह कांग्रेस पार्टी के सदस्य है और कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष स्व.नन्दकुमार पटेल के करीबी रहे है। इस बार मतदाता युवा दबंग प्रत्याशी की ही चाह रखे है इस लिए विजय वर्मा अपनी दावेदारी दमदारी से रखेगे,,आमजनता भी इस बार किसी युवा प्रत्याशी को देखना चाहती है अब देखना यह है कि कांग्रेस बिल्हा विधानसभा में किस पर भरोसा जताती है| प्रदेश में पहली बार 90 विधानसभा सीटों पर चुनाव लडऩे वाली आम आदमी पार्टी के बिलासपुर लोकसभा अध्यक्ष सरदार जसबीर सिंह पर पार्टी ने भरोसा जताया है। विगत कुछ वर्षों से राजनीति में आए जसबीर सिंह बिल्हा विधानसभा क्षेत्रवासियों के मूलभूत एवं महत्वपूर्ण समस्याओं के निदान के लिए लगातार नेतृत्व कर रहे हैं। जिस कारण क्षेत्रवासियों का भरोसा जीतने में वे कामयाब होते दिख रहे हैं। इनका कहना है कि बिल्हा का विकास आम आदमी पार्टी के नेतृत्व में होने से क्षेत्र की तकदीर और तस्वीर दोनों इस तरह बदलेगी जो किसी भी पार्टी के विधायकों ने नहीं किया है। बिल्हा विधानसभा विधायक सियाराम कौशिक के जेसीसी में चले जाने के बाद, बीजेपी के अध्यक्ष धरमलाल कौशिक के जनाधार के बीच, कांग्रेस से दावेदारों और आम आदमी पार्टी की पैठ से बिल्हा में इस बार चुनावी समीकरण बहुत ही उतार चढ़ाव और रोमांच से भरे घमासान की तरह होगा।

 

error: Content is protected !!