स्कूल ड्रेस में आग लगा कर जलाना, मजदूरों की साइकिलों को बिना बांटे जंग लगना आपत्तिजनक : कांग्रेस

रायपुर। जशपुर में मजदूरों को वितरित करने के लिए खरीदी गई 4200 साइकिलों के खड़े-खड़े जंग लगने और बिलासपुर में एक ट्रक स्कूल ड्रेस को कचड़े में फेंक कर आग लगाए जाने पर कांग्रेस ने कड़ा आक्रोश व्यक्त किया है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि यह दोनों घटनाये बेहद आपत्तिजनक है यह न सिर्फ जनता के गाढ़ी कमाई के पैसे की बर्बादी है, जरूरतमंदो के हितों पर डाका के समान है। इसके लिए जो भी जवाबदार है उन दोषियों पर कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।

भाजपा सरकार द्वारा गरीबो के नाम पर चलाई जा रही योजनाओं के आंडबर की यह जमीनी हकीकत है। भाजपा सरकार की प्राथमिकता लोगों को राहत पहुंचाना नहीं है, बल्कि सरकार योजनाये सिर्फ कमीशनखोरी के लिए बनाती है। गरीबो के नाम पर योजनायें बना कर कमीशनखोरी कर खरीदी तो कर ली गयी लेकिन जरूरतमंदों तक योजनाओ का लाभ नहीं पहुंच रहा। ऐसी क्या मजबूरी थी कि हजारों की संख्या में स्कूल ड्रेस में आग लगा दी गयी? भाजपा सरकार की नीयत बच्चों को स्कूल ड्रेस देने की रहती तो उसमे आग नही लगाई जाती, जरूरतमंद बच्चों में वितरित कर दिया जाता। मजदूरों को साइकल वितरण में क्यों देर की गयी? जब मजदूरों में बांटने के लिये साइकल की खरीदी कर ली गयी उसका वितरण क्यों नहीं किया गया? साइकल समय पर वितरण करने में विलंब के लिये भी भाजपा सरकार की बदनीयती जिम्मेदार है। भाजपा सरकार चुनाव नजदीक आने का इंतजार करती रही ताकि इसका चुनावी लाभ लिया जा सके। सरकार की स्वार्थ परकता के चलते हुई इसी देरी के कारण खुले में रखी साइकिलें जंग लग कर खराब हो गयी।

 

error: Content is protected !!