महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने केन्द्रीय संस्कृति मंत्रालय सचिव राघवेन्द्र सिंह ने राज्यों के मुख्य सचिवों से वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये किया विचार विमर्श

०० दो अक्टूबर से शुरू होंगे महात्मा गांधी जी का शिक्षाओं पर आधारित कार्यक्रम

रायपुर| राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गरिमा के साथ मनायी जायेगी। इसके लिए तैयारियां शुरू हो गई है। आज देश की राजधानी नई दिल्ली से केन्द्रीय संस्कृति मंत्रालय के सचिव श्री राघवेन्द्र सिंह ने देश के सभी राज्यों के मुख्य सचिवों और संस्कृति विभाग के सचिवों से व्यापक विचार-विमर्श किया। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के कार्यक्रम दो अक्टूबर 2018 से शुरू होंगे जो लगातार दो वर्ष तक चलेंगे। इस दौरान देश भर के स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में महात्मा गांधी की शिक्षाओं पर आधारित क्विज प्रतियोगिता, प्रदर्शनी, साइकिल और पद यात्रा सहित अन्य  कार्यक्रम होंगे। देश भर में गांधी जी की यादों से जुड़े स्थानों पर भी विशेष कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे।
वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान छत्तीसगढ़ शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास  विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री आर.पी. मण्डल ने केन्द्रीय संस्कृति सचिव को बताया कि राज्य में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने के लिए मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक सम्पन्न हो चुकी है जिसके दिशा निर्देशों के अनुसार राज्य में व्यापक तैयारियां शुरू कर दी गई है। श्री मंडल ने बताया कि राज्य में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के कार्यक्रमों के दौरान राज्य की पांच हजार से ज्यादा जनसंख्या वाली ग्राम पंचायतें जिनकी संख्या लगभग 171 है इनमें ’गांधी ऑक्सीजोन’ बनाये जाऐंगे। यहां पर बड़ी संख्या में पीपल और नीम के पौधे लगाये जायेंगे। इन पंचायतों के गांवों को पूरी तरह से ’कुष्ठ मुक्त’ भी किया जायेगा। इन पंचायतों के गांवों को खुल में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित किया जा चुका है। गांवों में सालिड लिक्विड बेस्ट मैनेजमैंट की कार्ययोजना भी तैयार की जा रही है। राज्य में महात्मा गांधी से जुड़े स्थान जहां गांधी जी का आगमन हुआ था वहां पर गरिमामय कार्यक्रमों का आयोजन होगा। श्री मंडल ने बताया कि केन्द्र शासन के दिशा-निर्देशों के अनुसार राज्य में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के दौरान होने वाले कार्यक्रमों की व्यापक तैयारियां की जा रही है।  वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान केन्द्र शासन के संस्कृति विभाग के वरिष्ठ अधिकारी सहित अन्य विभागों के अधिकारी, राज्यों के मुख्य सचिव सहित अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे। छत्तीसगढ़ शासन के अधिकारियों में पर्यटन एवं संस्कृति और स्वास्थ्य विभाग की सचिव श्रीमती निहारिका बारिक, शिक्षा विभाग के सचिव श्री गौरव द्विवेदी सहित उच्च शिक्षा विभाग तथा राज्य शासन के अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

 

error: Content is protected !!