गांव, गरीब और किसानों के अग्रणी नेता थे डॉ. खूबचंद बघेल : डॉ रमन सिंह

०० डॉ. रमन सिंह ने डॉ. बघेल की जयंती पर प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज प्रदेश के प्रसिद्ध स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, साहित्यकार, पूर्व विधायक और पूर्व राज्यसभा सांसद डॉ. खूबचंद बघेल की जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी है।
मुख्यमंत्री ने उनकी जयंती पर आज शुभकामना संदेश में कहा है कि स्वर्गीय डॉ. बघेल छत्तीसगढ़ महतारी के सच्चे सपूत और गांव, गरीब तथा किसानों के अग्रणी और कर्मठ नेता थे। छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण आंदोलन में स्वर्गीय डॉ. बघेल के ऐतिहासिक योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वर्गीय डॉ. बघेल ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में छत्तीसगढ़ में जनता को संगठित कर राष्ट्रीय चेतना के विकास और विस्तार में महत्वपूर्ण योगदान दिया। अगस्त 1942 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आव्हान पर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ों आंदोलन में भी हिस्सा लिया। इसके फलस्वरूप उन्हें लगभग ढाई साल तक जेल में रहना पड़ा। डॉ. रमन सिंह ने कहा – स्वर्गीय डॉ. बघेल ने साहित्य के माध्यम से जहां हिन्दी और छत्तीसगढ़ी भाषा को समृद्ध बनाने का अथक प्रयास किया वहीं उन्होंने ‘ऊंच – नीच’ शीर्षक से रचित अपने लोकप्रिय नाटक के जरिए समाज में छुआ-छूत की भावना को दूर करने के लिए जनजागरण में भी अहम भूमिका निभाई। मुख्यमंत्री ने कहा – स्वर्गीय डॉ. बघेल ने छत्तीसगढ़ के शिक्षा के प्रसाद के लिए भी सराहनीय कार्य किया। उन्होंने वर्ष 1958-59 में सिलियारी में जनता हाई स्कूल की शुरूआत की। आज यह विद्यालय उनके नाम पर जाना जाता है। मुख्यमंत्री ने कहा – स्वर्गीय डॉ. बघेल की स्मृतियों को चिरस्थायी बनाए रखने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने उनके नाम पर किसानों के लिए डॉ. खूबचंद बघेल कृषक रत्न सम्मान की स्थापना की है, जो हर साल राज्य स्थापना दिवस (राज्योत्सव) के अवसर पर नवम्बर माह में आयोजित राज्य स्तरीय समारोह में प्रदान किया जाता है। उल्लेखनीय है कि डॉ. खूबचंद बघेल का जन्म 19 जुलाई सन 1900 को रायपुर जिले के ग्राम पथरी में हुआ था। उनका निधन 22 फरवरी 1969 को नई दिल्ली में हुआ, जब वह संसद के अधिवेशन में शामिल होने वहां गए थे।  

 

error: Content is protected !!