हक़ की लड़ाई लड़ते लड़ते हुई किसान की मौत, सरकार की गलत नीति जिम्मेदार :सियाराम कौशिक

०० किसानों के फसल बीमा में हो रही लगातर गड़बडियों की भेंट चढ़ा एक और परिवार

००  अपने हक़ के लिये तहसीलदार से बात करने पहुंचे किसान की हृदयघात से मौत

००  किसानों ग्रामीणों संग विधायक ने खोला मोर्चा, गांव छावनी में तब्दील

०० सियाराम ने की किसान को 20 लाख मुआवजा और परिवार को नौकरी देने की मांग 

बिलासपुर| पथरिया ब्लॉक के ग्राम बदरा डी में आज सुबह सैकड़ो की संख्या में किसानों ने अपनी फसल बीमा राशि व सूखा राहत की मांग को लेकर तहसील की ओर कूच करने निकले। अधिकारियों को फसल बीमा ओर सूखा राहत नही मिलने की शिकायत और अपनी परेशानियों से अवगत कराते समय वहां उपस्थित एक किसान मनहरण लाल साहू उम्र 61 साल के सीने में दर्द की शिकायत हुई जिसकी अस्पताल ले जाते वक्त मृत्यु हो गई।

जिला प्रवक्ता विक्रान्त तिवारी ने बताया कि सूचना पर बिल्हा विधायक मा. सियाराम कौशिक और किसान के परिवारजन, आक्रोशित ग्रामीणों के साथ मौके पर पहुंच कर किसान को न्याय दिलाने धरने पर बैठे। देखते देखते गाँव छावनी में तब्दील होगया, अधिकारियों और सरकार को आड़े हांथो लेते हुए विधायक सियाराम कौशिक ने इसे गंभीर घटना बताया। सियाराम कौशिक ने कहा कि आज भाजपा सरकार चुन चुन के अपने लोगों को फसल बीमा ओर सूखा राहत बांट रही है। जो किसान धान बेचे है उन्हें भी राशि दी जारही है किंतु प्रभावित किसान मरने को मजबूर हो रहा है। आज फिर हमारा एक भाई अपनी हक़ की लड़ाई लड़ते लड़ते मर गया। किसान अपने हक़ के लिए लड़ रहे है,मर रहे हैं और सरकार के कानों में जूं तक नही रेंग रही। हम सरकार से मांग करते हैं कि शीघ्र मृत किसान के परिवार को 20 लाख रुपए सहायता राशि, बच्चे को नौकरी और फसल बीमा एवं सूखा राहत की राशि दिया जाए। अन्यथा जनता कांग्रेस उग्र प्रदर्शन करने सड़को पे उतर जाएगी। जिसकी पूरी जवाबदारी सरकार की होगी।

     

 

error: Content is protected !!