लोक निर्माण मंत्री मूणत ने राष्ट्रीय भवन निर्माण संहिता संबंधी कार्यशाला का किया शुभारंभ

रायपुर| लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत ने आज राजधानी रायपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में राष्ट्रीय भवन निर्माण संहिता संबंधी आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ किया। उन्होंने इंडियन बिल्ंिडग कांग्रेस छत्तीसगढ़ स्टेट सेन्टर रायपुर के तत्वाधान में आयोजित इस कार्यशाला में राष्ट्रीय भवन निर्माण की स्मारिका का विमोचन भी किया। 
मूणत ने कार्यशाला में संबोधित करते हुए कहा कि विकास के सभी क्षेत्रों का एक बहुत बड़ा हिस्सा निर्माण से जुड़े कार्य होते हैं, चाहे वह भवन निर्माण हो या फिर उद्योग, सिंचाई, बिजली, कृषि, परिवहन, शिक्षा अथवा स्वास्थ्य आदि का क्षेत्र हो। इस दिशा में राष्ट्रीय भवन निर्माण संहिता बहुत उपयोगी है। उन्होंने संहिता के प्रचार-प्रसार के लिए भी आयोजित कार्यशाला को महत्वपूर्ण बताया। मूणत ने कहा कि वर्तमान दौर के अनुरूप दूरगामी सोच के साथ कार्ययोजना बनाकर निर्माण से जुड़े कार्यो को पूर्ण करें। इसमें गुणवत्ता के साथ-साथ समय सीमा का भी विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कार्यशाला में छत्तीसगढ़ के साथ-साथ अन्य राज्यों से शामिल भवन निर्माताओं, इंजीनियरों तथा निर्माण कार्यो से जुड़े प्रतिनिधि संगठनों को नया रायपुर का भी अध्ययन भ्रमण करने के लिए कहा। मूणत ने बताया कि नया रायपुर को 21वीं सदी के प्रथम हरित स्मार्ट शहर केे रूप में विकसित किया जा रहा है। कार्यशाला में राष्ट्रीय भवन निर्माण संस्था के महानिदेशक श्रीमती सुरीना राजन ने इसके गठन और संहिता के बारे में विस्तार से अवगत कराया। उन्होंने बताया कि इसके तहत राष्ट्रीय स्तर पर एकीकृत भवन संहिता के लिए कार्य किया गया है। इसमें आपदा प्रतिरोधी भवन, अच्छा और सुरक्षित निर्माण रीतियां, सौर ऊर्जा उपयोगिता, कृषि और औद्योगिक अपशिष्ट तथा मलबे के उपयोग को प्रोत्साहन, नवीनतम संरचनागत डिजाइन कार्य प्रणाली, समयबद्ध कार्य समाप्ति के लिए परियोजना प्रबंधन और पर्यावरण अनुकूलन, ऊर्जा दक्ष प्रकाश व्यवस्थाएं आदि पर विशेष जोर दिया गया है। कार्यशाला को राष्ट्रीय भवन निर्माण संस्थान से डॉ.एम.के.वर्मा, श्री अभय सिन्हा, श्री ओ.पी.गोयल ने भी संबोधित किया। 

 

error: Content is protected !!