व्यवसायी की पत्नी ने की जहर खाकर खुदखुशी

०० राज्य महिला आयोग के सामने धरने पर बैठकर कर चुकी है इच्छा मृत्यु की मांग

रायपुर। राज्य महिला आयोग के सामने धरने पर बैठकर इच्छा मृत्यु की मांग कर चुकी व्यवसायी की पत्नी (43) ने शुक्रवार को जहर खाकर खुदकुशी कर ली। महिला 16 दिसंबर 2012 से पति से अलग एक मकान में रह रही थी जो लोन पर था। लोन चुकता नहीं कर पाने पर बैंक ने चार दिन पहले मकान सील कर दिया था, उसके बाद महिला मंदिर में रह रही थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच कर रही है।

मिली जानकारी के मुताबिक मृतका सविता खंडेलवाल की शादी 1992 में धमतरी के बड़े बिजनेसमैन अखिलेश खंडेलवाल से हुई थी। 1993 में सविता ने अपने पहले बच्चे को जन्म दिया था। जिंदगी पूरी तरह से हंसी-खुशी चल रही थी। 2007 में सविता ने अपने दूसरे बेटे अमित खंडेलवाल को जन्म दिया। इसके बाद से पति के बदलते व्यवहार से वो परेशान रहने लगी थी। मारपीट, घरेलू हिंसा के चलते सविता ने 16 दिसंबर 2012 को अपने पति का घर छोड़ दिया था। सविता पति से अलग अमलासपुरम कॉलोनी के एक मकान में रहती है। इस मकान को उसके नाम से उसके पति ने लोन पर खरीदा था। मकान का किश्त सविता चुका रही थी। किश्त चुकता नहीं कर पाने पर बैंक की ओर से नोटिस आया था। सविता ने बैंक से मोहलत मांगी थी। बैंक ने मोहलत नहीं दिया और मकान सील कर दिया। इसके बाद वो मंदिर में रह रही थी।

 

error: Content is protected !!