छत्तीसगढ़ कैडर के आईपीएस अधिकारी लांगकुमेर बने नगालैंड के पुलिस महानिदेशक

०० बस्तर में माओवादियों के खिलाफ संयुक्त अभियानों के संचालन का टीजे लांगकुमेर को है लंबा अनुभव

रायपुर| छत्तीसगढ़ कैडर के भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी टीजे लांगकुमेर नगालैंड राज्य के पुलिस महानिदेशक बनाए गए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गुरुवार शाम उनके अंतरराज्य प्रतिनियुक्ति का आदेश जारी कर दिया। राज्य सरकार को उन्हें तुरंत कार्यमुक्त करने का आदेश दिया गया है। लांगकुमेर 1991 बैच के आइपीएस हैं और फिलहाल एडीजी रेल और यातायात की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं।

लांगकुमेर को बस्तर में माओवादियों के खिलाफ संयुक्त अभियानों के संचालन का लंबा अनुभव है। उन्हें 2012 में गृह मंत्रालय का प्रतिष्ठित सीआरपीएफ कमांडेशन अवार्ड भी मिला था। यह अवार्ड पाने वाले वे पहले गैर सीआरपीएफ अधिकारी हैं। पिछले दो दिनों में यह दूसरा मौका है जब आंतरिक सुरक्षा से जुड़े छत्तीसगढ़ के अधिकारी को केंंद्र ने अंतरराज्य प्रतिनियुक्ति पर भेजा है। बुधवार को गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम को जम्मू-कश्मीर का मुख्य सचिव नियुक्त किया गया था। आंध्र प्रदेश मूल के बीवीआर सुब्रमण्यम इंजीनियरिंग पृष्ठभूमि के अफसर हैं। उन्होंने लंदन बिजनस स्कूल से एमबीए किया हुआ है। उनकी केंद्रीय प्रतिनियुक्ति का लंबा अनुभव है। छत्तीसगढ़ बनने के कई वर्षों बाद भी वे मूल कैडर में लौटे ही नही थे।यहां तक कि इनकी सेवाएं मांगने के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री को पत्र तक लिखा था। इस बीच उन्होंने वाणिज्य मंत्रालय में निदेशक की जिम्मेदारी संभाली। 2004 में यूपीए की सरकार आने पर तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उन्हें अपना निजी सचिव बना लिया। चार वर्षों बाद वे विश्व बैंक का सलाहकार बनकर वाशिंगटन चले गए। 2012 में उन्हें प्रधानमंत्री कार्यालय में संयुक्त सचिव बनाया गया। 2015 में ही वे छत्तीसगढ़ लौट पाए।

 

error: Content is protected !!