स्वस्थ जीवन के लिए योग को दिनचर्या  का हिस्सा बनाने की जरूरत : डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री ने किया चौथे योग दिवस में व्यापक जन-भागीदारी का आव्हान

रायपुर| राज्य सरकार ने चौथे अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारी शुरू कर दी। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने योग दिवस के सफल आयोजन के लिए अपनी शुभकामनाएं दी है। मुख्यमंत्री ने स्वस्थ जीवन के लिए योग अभ्यास को प्रत्येक व्यक्ति की दिनचर्या का एक अनिवार्य हिस्सा बनाने की जरूरत पर बल दिया है।  उन्होंने आज यहां जारी शुभकामना संदेश में प्रदेशवासियों से इस महीने की 21 तारीख को अपने-अपने गांवों और शहरों में सवेरे 7 बजे से 8 बजे तक होने वाले सामूहिक योग अभ्यास कार्यक्रमों में अधिक से अधिक संख्या में शामिल होने की अपील की है। उन्होंने इस आयोजन में व्यापक जनभागीदारी का आव्हान करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में इस वर्ष के योग दिवस में एक करोड़ नागरिकों को सामूहिक योग अभ्यास से जोड़ने का लक्ष्य है। इसके लिए हर जिले में हम सब मिलकर ऐसा प्रयास करें कि कम से कम 50 प्रतिशत लोग अवश्य इसमें हिस्सा लें। 
डॉ. सिंह ने कहा कि स्वस्थ मानव समाज के निर्माण के लिए भारत ने ही दुनिया को सबसे पहले योग विद्या की जानकारी दी। योग अभ्यास के जरिए मनुष्य बिना किसी खर्च के स्वस्थ रह सकता है। कई बीमारियों का आसान इलाज योग के जरिए हो सकता है। डॉ. रमन सिंह ने यह भी कहा है कि भारत की इस सर्वाधिक प्राचीन योग विद्या को संयुक्त राष्ट्र संघ के जरिए अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता दिलाने का श्रेय हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को दिया जाना चाहिए, जिनकी सक्रिय पहल से दुनिया के लगभग 200 देश विगत तीन वर्षों से 21 जून को सामूहिक योग अभ्यास के जरिए अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मना रहे हैं। यह भारत के लिए गर्व की बात है। इस बीच मुख्यमंत्री के निर्देश पर समाज कल्याण तथा खेल एवं युवा कल्याण विभाग ने अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के सुव्यवस्थित आयोजन के लिए सभी जिला कलेक्टरों को परिपत्र जारी किया है। विभाग के विशेष सचिव श्री आर. प्रसन्ना ने परिपत्र में योग दिवस के कार्यक्रमों में व्यापक जनभागीदारी सुनिश्चित करने के लिए बिन्दुवार दिशा-निर्देश दिए हैं। 

 

error: Content is protected !!