हमें अपने आदिवासियों और जंगलों पर गर्व है मोदी जी : भूपेश बघेल

०० आपने बताया कि आधा छत्तीसगढ़ गरीब है, शुक्रिया प्रधानमंत्री जी, आपके विकास का यह मॉडल आपको मुबारक

०० जिसमें जनता गरीब रहती है और आंकड़े बड़े होते जाते हैं

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि आदिवासी और जंगल छत्तीसगढ़ की पहचान रहे हैं और इस पर हर छत्तीसगढ़वासी को गर्व रहा है। प्रधानमंत्री के भाषण पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा है कि भारतीय जनता पार्टी आदिवासियों और जंगलों की पहचान से शर्मिंदा है तो यह उसकी करतूतों से भी साफ़ है तभी वे आदिवासियों और जंगलों दोनों को ख़त्म करना चाहती है।

उल्लेखनीय है कि भिलाई में आमसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है, “जो छत्तीसगढ़ पिछड़ा, आदिवासियों का और जंगल का… यही छत्तीसगढ़ की पहचान रही है, यह पहचान आज यदि देश में स्मार्ट सिटी की पहचान में बन रहा है तो इससे अधिक गर्व की बात क्या हो सकती है।” इस पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ पिछड़ा था और इस पर हम सबको अफ़सोस रहा है इसीलिए कांग्रेस ने सबसे पहले छत्तीसगढ़ राज्य बनाने का प्रस्ताव विधानसभा में पारित किया था। उन्होंने कहा कि अफ़सोस है कि 15 वर्षों के भाजपा शासन के बाद भी नीति आयोग के सीईओ को कहना पड़ा कि छत्तीसगढ़ देश के विकास में बाधा बन रहा है। उन्होंने कहा कि भाजपा आदिवासियों और जंगलों से शर्मिंदा है। इसीलिए वह जंगल को मनमाने ढंग से काट रही है और रमन सरकार के कार्यकाल में तीन प्रतिशत जंगल कम हो गए हैं। रमन सरकार आदिवासियों को भी ख़त्म करना चाहती है, इसीलिए बस्तर में सात सौ गांव खाली करवा दिए गए और नक्सल हिंसा के नाम पर लगातार आदिवासियों पर अत्याचार किया जा रहा है। भूपेश बघेल ने कहा है कि हर छत्तीसगढ़वासी को अपने आदिवासियों और जंगलों पर गर्व है और यह गर्व हमेशा बना रहेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस स्मार्ट सिटी के ख़लिफ़ नहीं है, वह भी आवश्यक है लेकिन जंगलों और आदिवासियों की कीमत पर कोई विकास उसे मंज़ूर नहीं है। उन्होंने कहा है कि छत्तीसगढ़ के इस अपमान के लिए भाजपा को छत्तीसगढ़वासियों से माफ़ी मांगनी चाहिए। प्रधानमंत्री के भाषण पर उन्होंने कहा है कि अब तक यह धारणा थी कि प्रदेश में रमन सिंह के कार्यकाल में गरीबों की संख्या 37 प्रतिशत से बढ़कर 39.9 प्रतिशत हो गई लेकिन आज नरेंद्र मोदी जी ने सही सही आंकड़ा बता दिया है कि छत्तीसगढ़ में दरअसल एक करोड़ 30 लाख लोग गरीब हैं, यानी प्रदेश की आधी आबादी गरीबी की गिरफ़्त में आ चुकी है, उनका शुक्रिया. भूपेश बघेल ने कहा है कि यदि यही रमन सिंह और भाजपा का विकास मॉडल है तो यह उन्हें ही मुबारक। भिलाई को आईआईटी कैंपस देते हुए पिछली सरकारों पर नरेंद्र मोदी की ओर से किए गए तंज़ पर भूपेश बघेल ने कहा कि प्रधानमंत्री भूल रहे हैं कि छत्तीसगढ़ में आईआईएम, एनआईटी, नेशनल यूनिवर्सिटी, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी कांग्रेस की केन्द्र सरकार के कार्यकाल में बने है। छत्तीसगढ़ एम्स का पूरा इन्फ्रास्ट्रक्चर भी कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में बना, जिस भिलाई इस्पात संयंत्र की शान में प्रधानमंत्री कसीदे कढ़ रहे थे वह भी कांग्रेस की पहली केन्द्र सरकार की दूरदर्शी सोच का परिणाम है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा है कि भिलाई आने के बाद आज पहली बार नरेंद्र मोदी को अहसास हुआ कि कांग्रेस ने देश को क्या दिया है. तभी तो उन्होंने कहा कि कच्छ से कटक तक और कारगिल से कन्याकुमारी तक जो भी रेल पटरियां आज़ादी के बाद बिछी हैं वो भिलाई की देन है. अगर मोदी जी संकीर्ण सोच के नहीं होते तो वे ज़रूर कहते कि देश सदा जवाहर लाल नेहरू का आभारी रहेगा जिन्होंने भिलाई इस्पात संयंत्र की कल्पना की और उसे साकार किया.

निराश किया मोदी ने :- बयान में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी के भिलाई आने से भिलाई संयंत्र के कर्मचारियों को बड़ी उम्मीद थी वे कुछ न कुछ तोहफ़ा देकर जाएंगे लेकिन वे रमन सिंह की तारीफ़ करने आए थे और रमन सिंह उनकी तारीफ़ करने के लिए खड़े हुए थे. प्रशंसा के पिंग पॉन्ग में नरेंद्र मोदी और रमन सिंह दोनों भूल गए कि भिलाई वासी लंबे समय से वेज रिविज़न और एचआऱए रिविज़न की मांग कर रहे हैं| नरेंद्र मोदी ने न छत्तीसगढ़ के किसानों को कोई आश्वासन दिया और न बेरोज़गार युवाओं के लिए कोई वादा करके गए. उल्टे वे झूठ बोल गए कि विकास से लाखों युवा मुख्य धारा में शामिल हुए हैं, जबकि सच यह है कि छत्तीसगढ़ में बेरोज़गारों की संख्या बढ़ रही है।

 

error: Content is protected !!