संकल्प शिविर से कांग्रेस और मजबूत हुयी है : पीएल पुनिया

०० सीडी कांड में नहीं हो रही है निष्पक्ष जांच, विपक्ष को बदनाम करने का है इरादा

०० केंद्र सरकार ने न तो सुपेबेड़ा की सुधबुध ली है, न ही राज्य सरकार ने जवाबदेही

रायपुर। आज दिल्ली रवाना होने के पूर्व सर्किट हाउस में पत्रकारो से चर्चा करते हुये छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल. पुनिया ने कहा है कि यह संकल्प शिविर सबके लिये संकल्प है। परिवर्तन आना है, सरकार बनानी है। परिवर्तन लाने के लिये संकल्प में सभी का सहयोग चाहिये। कल भी आपने देखा होगा सभी के साथ संकल्प लिया है और कैन्डीडेट्स ने अलग-अलग भी इस बात को दोहराया है संकल्प लिया है कि जिसको भी टिकट मिलेगा हम सब मिलकर उसका साथ देंगे, उसको जितायेंगे, कांग्रेस पार्टी को जितायेंगे। ये जो बहुत बड़ी बात है, कांग्रेस पार्टी के पक्ष में बहुत बड़ा डेवलपमेंट है। वर्ना भीतर घात की शिकायतें आती रहती भी, इससे पार्टी में एकता और बढ़ रही है, आपसी तालमेल बेहतर हो रहा है। 

सीडी कांड पर छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल. पुनिया ने कहा कि सीडी कांड में निष्पक्ष जांच नहीं हो रही है। सीबीआई जांच के लिये इन्होने कोशिश की। इरादा तो विपक्ष को बदनाम करने का कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने का था। वास्तविकता जो सामने आयी है, किसने सीडी बनवायी है इसके बारे में कोई बात नहीं कर रहा है। मुख्यमंत्री आवास से असली सीडी और नकली सीडी दोनो उनके द्वारा बांटी गयी, इसके बारे में कोई क्यों बात नहीं करना चाहता है? ये क्या हो रहा है। किस तरह से प्रताड़ना की गयी, उत्पीड़न किया गया, इतना क्यों सताया गया कि एक नौजवान फांसी लगा लेने को मजबूर हो जाता है। रिंकू खनूजा के परिवार का आरोप है उनकी मां का और उनकी पत्नी का आरोप है कि यह खुदकुशी नहीं हत्या है। फांरेन्सिक एक्सपर्ट जो मौके पर गये है उनका कहना है कि यह आत्महत्या हो ही नहीं सकती। यह तो सीधे-सीधे हत्या है। गुत्थी उलझती जा रही है। सीबीआई राज्य सरकार और केन्द्र सरकार के इशारे पर काम कर रही है। जब राजनैतिक रूप तो कांग्रेस पार्टी का मुकाबला नहीं कर पाती तो भाजपा सीबीआई का तोता आगे करके दुरूपयोग करती है। सीडी कांड में नाम तो आ रहे है सार्वजनिक रूप से आ रहे है, मीडिया में आये है कि भाजपा के लोग इसमें संलिप्त है। उनके विरूद्ध कार्यवाही क्यो नहीं हो रही है उनके बचाने की पूरी कवायद हो रही है। रिंकू खनूजा की आत्महत्या/हत्या का मामला इन्हीं सबसे जुड़ा हुआ है। 

अमित शाह के बयान पर कांग्रेस का पलटवार :- भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बयान के बारे में पूछे जाने पर छत्तीसगढ़ प्रभारी पी.एल. पुनिया ने कहा कांग्रेस पार्टी किस तरह से काम करें, आगे बढ़े इसकी चिंता करना अमित शाह छोड़ दे। वो अपना देखे लोग चार साल का हिसाब मांग रहे है। आप सरकार में है, चार सालों के काम का हिसाब देने के बजाय आप कांग्रेस पार्टी के उपर हमला बोल रहे है। कांग्रेस पार्टी की राजनीति खुली किताब की तरह है। धोखा देकर, झूठ बोलकर सत्ता हथियाने का काम कांग्रेस पार्टी कभी नहीं करती। मोतीलाल, नेहरू से लेकर जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, इन सबका स्वर्णिम इतिहास है जिसे किसी को बताने की आवश्यकता नहीं है। सबको मालूम है। कांग्रेस पार्टी के इतिहास में आजादी के लड़ाई भी शामिल है। अमित शाह बतायें कि भाजपा से जुड़े उस समय में हिंदु महासभा आरएसएस जैसे संगठनों का क्या योगदान था? में संगठन तो आजादी के लड़ाई में अंग्रजो के साथ मिले हुये थे। इनने तो घोषणा करने अंग्रेजो की मद्द की थी। जब गांधी जी कह रहे थे कि अंग्रेजो भारत छोड़ो हिंदुस्तान छोड़े, कांग्रेस के भारत छोड़ो आंदोलन के समय आरएसएस और हिन्दू महासभा के लोग अंग्रेजों को साथ दे रहे थे। इसलिये ये स्वतंत्रता संग्राम से चर्चा नहीं करते क्योंकि इनका इतिहास दागदार है। एक जानकारी चीज में भी अमित शात को मालूम होना चाहिये। अगर भारतीय संविधान के अनुसार प्रजातंत्र में विश्वास रखते हो तो उनको ये जानकारी होनी चाहिये कि हर पांच साल बाद जब चुनाव होता है तो हिसाब दिया जाता है। जनता को हिसाब देना होता है। जब जनता वोट देती है। हम लोग आज सत्ता के बाहर है, तो जनता के द्वारा बाहर किये गये है। अमित शाह जी अगर कहा है तो किस हैसियत से जवाब मांग रहे है? उनके चार साल पुरे हो चुके है। पांचवा साल चल रहा है पांच साल पूरे होने पर चुनाव होना है। हिसाब तो उनको देना है। उल्टा कांग्रेस से हिसाब मांग रहे हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भ्रम में न रहे। छत्तीसगढ़ में लगातार कांग्रेस ने भाजपा सरकार को बेनकाब किया है। 162 आरोप जो अभी विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था वो इस सदन की कार्यवाही का हिस्सा है। हम इसे जनता के बीच भी लेकर जा रहे है। रमन सिंह सरकार के भ्रष्टाचार को जनता के बीच ले जायेंगे और भाजपा सरकार का पर्दाफाश करेंगे। 

रमन सरकार ने की है मुकेश अंबानी की चमचागीरी:- हम ये बताये कि वित्त आयोग भाजपा का आयोग है। वित्त आयोग भाजपा की कोई संस्था नहीं है। जो पैसा बंटवारा हुआ है, वह कोई भाजपा का पैसा नहीं है। यह पैसा जनता का पैसा है। जो केंद्र सरकार ने टैक्स के माध्यम से जो वसूल किया है। उसकी हिस्सेदारी संविधान में निर्धारित प्रक्रिया के अनुरूप होती है। और पंचायतो को जो पैसा देने की जो बात है। राज्यों को पैसा देने का प्रावधान पहले से था लेकिन पंचायतो के लिये राजीव गांधी जी ने जो व्यवस्था की थी कि पंचायतो को भी पैसा मिलना चाहिये। इसका निश्चित हिसाब है लेकिन भाजपा का क्या हिसाब राजीव गांधी जी की भावना के अनुरूप पंचायतो को पैसा मिला। पंचायतो को पैसा मिलने के बाद में वापस मंगाते है। यह है भाजपा का चरित्र छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार पंचायतो में जहां विकास के लिये आये पैसो से मुकेश अंबानी की जिओ कंपनी के टाॅवर बनाने वाले थे। सबको मालूम है कि मोबाईल कंपनिया अपने टाॅवर खुद बनाती है लेकिन रमन सरकार चमचागिरी करते हुये, मुकेश अंबानी की चमचागिरी करते हुये उनके लिये टाॅवर बनाने जा रही थी। कांग्रेस ने इसका विरोध किया, पंचायत प्रतिनिधीयों ने इसका विरोध किया, और ये निर्णय भाजपा की राज्य सरकार को वापस लेना पड़ा। सरकारो को मिलने वाली हर पैसे में कांग्रेस पार्टी की भूमिका है, कांग्रेस पार्टी का योगदान है, जनता का पैसा है, जनता का पैसा हर जगह वितरित होता है।

न तो केंद्र सरकार ने सुपेबेड़ा की सुधबुध ली है, न राज्य सरकार ने जवाबदेही बरती है :- सुपेबेड़ा में एक के बाद एक मौतो का सिलसिला जारी है और एक मौत की दुर्घटना हुयी यह दुर्भाग्य की बात है। राज्य सरकार की ओर से कोई भी कार्यवाही नही हुयी। शुद्ध पानी, सही पानी जो की स्वास्थ्य के लिये हानिकारक न हो यह व्यवस्था करना राज्य सरकार की जिम्मेदारी है। केंद्र सरकार की जिम्मेदारी है। कांग्रेस यूपीए सरकार के समय एक विशेष कार्यक्रम चलाया गया था जो समस्याग्रस्त गांवो के लिये पानी की व्यवस्था करता था। सुपेबेड़ा की समस्या ग्रस्त गांवो में से है सुपेबेड़ा के लिये शुद्ध पानी की व्यवस्था की जानी चाहिये। न तो केंद्र सरकार ने सुपेबेड़ा की सुधबुध ली हैं न राज्य सरकार ने जवाबदेही बरती है। 

 

error: Content is protected !!