पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में दर्रेकसा एलओएस डिप्टी कमांडर आजाद ढेर

०० दर्रेकसा एलओएस डिप्टी कमांडर आजाद पर था पांच लाख का ईनाम

०० पुलिस मुठभेड़ में दो नक्सल सहयोगी भी मारे गए, जंगल से एक कट्टा और 315 बोर का रायफल भी बरामद

रायपुर/राजनांदगांव| जिले के बोरतलाव थाना क्षेत्र के कनघुर्रा के पास चंदियाडोंगरी के जंगल में पुलिस ने एक इनामी हार्डकोर नक्सली समेत तीन लोगों को मार गिराया है। मंगलवार सुबह जंगल में नक्सलीयों की मौजूदगी की सूचना पर निकली फोर्स को यह सफलता मिली है, जंगल में एक कट्टा और 315 बोर का रायफल भी बरामद हुआ है।

मिली जानकारी के मुताबिक बोरतलाव में पिछले कुछ समय से नक्सलियों की हलचल की खबर मिल रही थी। मंगलवार को पुलिस को पुख्ता सूचना मिली कि चंदियाडोंगरी के जंगल में कुछ नक्सली मौजूद हैं, इस सूचना पर डीआरबी की टीम जंगल में सर्च के लिए निकली और उसका नक्सलियों से आमना सामना हो गया। मुठभेड़ के बाद चलाए गए सर्च अभियान में फोर्स को तीन शव मिले हैं। इनमें से एक हार्डकोर नक्सली है जबकि बाकी के दो नक्सलियों के सहयोगी हैं। पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारे गए माओवादी की पहचान दर्रेकसा एलओएस के डिप्टी कमांडर आजाद के रूप में की गई है। एएसपी (नक्सल सेल) वायपी सिंह ने बताया कि आजाद पर पांच लाख रूपए का इनाम था। उन्होंने बताया कि बाकी दो मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है। उन्होंने कहा कि ये दोनों संभवत: नक्सल सहयोगी होंगे और नक्सलियों का सामान इधर से उधर लाने का काम करते रहे होंगे। पुलिस के साथ मुठभेड़ के दौरान ये भी वहां मौजूद थे और मारे गए। सिंह ने बताया कि मुठभेड़ में और भी लोगों को गोली लगी होगी लेकिन जंगल का फायदा उठाकर वे भागने में कामयाब हो गए।

जंगल में सर्चिंग जारी:-  एएसपी सिंह ने बताया कि फोर्स अभी जंगल से लौटी नहीं है। डीआरबी की टीम जंंगल में सर्चिंग में जुटी हुई है। शाम तक मारे गए नक्सलियों के शव और हथियार सहित अन्य सामान को बोरतलाव लाए जाने की संभावना है। नक्सलियों के खिलाफ फोर्स को जंगल में अच्छी कामयाबी मिल रही है। इन पांच महीनों में फोर्स ने इस मुठभेड़ को मिलाकर सात नक्सलियों को मार गिराया है। इससे पहले जनवरी महीने में एक, फरवरी में दो और मई के दूसरे सप्ताह में एक नक्सली को पुलिस ने मारा था।

 

error: Content is protected !!