करगीरोड रेलवे स्टेशन में अव्यवस्थाओं का अंबार, स्टेशन मास्टर करते हैं यात्रियों से दुर्व्यवहार

०० टिकट काउंटर खिड़की दो होने के बाद भी एक ही काउंटर खोला जाता है,कारण पूछने पर बताया कर्मचारियों का अभाव

०० रेलवे के आला अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधि भी गहरी निंद्रा में

करगीरोड कोटा। बिलासपुर से 32 किलोमीटर दूर कटनी मार्ग पर करगी रोड रेलवे स्टेशन जो कि आसपास शहरों को जोड़ता है ,अचानकमार अभ्यारण्य धार्मिक नगरी रतनपुर, डॉ.रमन यूनिवर्सिटी यूनिवर्सिटी, लोरमी तखतपुर, मुंगेली, सहित आसपास ग्रामीण क्षेत्रों, से जुड़ा हुआ करगी रोड का रेलवे स्टेशन जहां पर बुनियादी सुविधाएं केवल नाम मात्र की है,एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव को लेकर मीडिया ने काफी सारी खबरें प्रकाशित करी पर ना ही रेलवे प्रशासन और ना ही रेलवे के बड़े अधिकारियों ने इस खबर पर ध्यानाकर्षण किया, अधिकारियों सहित जनप्रतिनिधियों के कानों में जूं तक नहीं रेंगी।

करगी रोड रेलवे स्टेशन में मेडिकल सुविधाओं का अभाव है, साथ ही रेलवे कर्मचारियों की तादाद भी काफी कम है, रेलवे बुकिंग काउंटर में कर्मचारी कम होने से एक ही बुकिंग काउंटर खोला जाता है ,दूसरा बुकिंग सेंटर बंद रहता है, कर्मचारियों के कम रहने के कारण कई बार एक ही काउंटर में भीड़ हो जाती है, जिससे कई बार यात्रियों की ट्रेन छूट जाती है, एक ही बुकिंग काउंटर क्लर्क आरक्षण भी करता है, टिकट भी देता है,उसके अलावा जब से गतवा फाटक पास कोल साइडिंग बनी है,तबसे रेलवे कर्मचारियों का अभाव बना हुआ है, करगी रोड रेलवे स्टेशन के स्टेशन मास्टर अनिल कुमार साहू का यात्रियों सहित रेलवे कर्मचारियों पर दुर्व्यवहार करने का आरोप भी लगते रहता है, पिछले दिनों हुए बिलासपुर भोपाल पैसेंजर में प्लेटफार्म नंबर 3 में कोटा के डाक बंगला निवासी यादव जो कि बिलासपुर वन विभाग के बड़े अधिकारी के यहां खाना बनाने का काम करता था ,जिसका रोजाना ही करगी रोड रेलवे स्टेशन से बिलासपुर आना जाना रहता था, दुर्घटना के6 दिन करगी रोड रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 3 पर दुर्घटना ग्रस्त हो जाने के बाद रेलवे यात्री का दोनों पैर और एक हाथ कट जाने के बाद गंभीर अवस्था में उसे कोटा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां से उसे सिम्स रिफर कर दिया गया, शुरुआती मेडिकल सुविधा गंभीर रूप से घायल हुए रेलवे यात्री को करगी रोड रेलवे स्टेशन में नहीं मिल पाया, मेडिकल सुविधा के बारे में स्टेशन मास्टर अनिल कुमार साहू से जब पत्रकारों ने सवाल किया, तो स्टेशन मास्टर अनिल कुमार साहू झल्लाते हुए पत्रकारों से ही सवाल करने लगे कि आपके पास लिखित आदेश है,साथ ही घटना के बारे में जानकारी लेने पर उन्होंने नागपुर डिवीजन में बात करने की बात कही| करगी रोड रेलवे स्टेशन में हुए दुर्घटना के बारे में अगर मीडिया को कुछ जानकारी चाहिए, तो उसे नागपुर डिवीजन के अधिकारियों से बात करना पड़ेगा स्टेशन मास्टर करगीरोड कोटा के अधिकृत नहीं है, केवल अगर स्टेशन में कोई दुर्घटना हो जाए उसकी जानकारी अपने बड़े अधिकारियों को देने की बात कही, दुर्घटनाग्रस्त यात्री स्टेशन में  दम तोड़ दे उससे स्टेशन मास्टर  को कोई सरोकार नहीं है,साथ ही करगी रोड रेलवे स्टेशन में दैनिक यात्री के रूप में सफर करने वाले कुछ यात्रियों का कहना था, की घटना वाले दिन स्टेशन मास्टर और अन्य कर्मचारियों का कोई सहयोग नहीं मिला, स्थानीय यात्रियों ने ही 108 एंबुलेंस को फोन किया और स्वयं उठाते हुए एंबुलेंस पर पहुंचाया गया, जबकि यहां पर स्टेशन मास्टर सहित रेलवे कर्मचारियों का कर्तव्य बनता है, शुरुआती मेडिकल सुविधा देने के बाद गंभीर रूप से घायल हुए यात्री को मेडिकल सुविधाएं प्रदान करें, पिछले दिनों  एक और रेल दुर्घटना में रेलवे यात्री का पैर कट गया था 1 घंटे तक  रेलवे स्टेशन में  पड़े रहने से  उसकी हालत और गंभीर हो गई थी,जब हरित छत्तीसगढ़ के पत्रकार द्वारा रेलवे के अधिकारी डीआरएम बिलासपुर ट्वीट कर जानकारी दी गई उसके बाद रेलवे प्रबंधन हरकत में आया और पीछे आ रही एक्सप्रेस ट्रेन को रुकवा कर गंभीर रूप से घायल यात्री को रेलवे चिकित्सालय रेफर किया गया ,जहां से उसे सिम्स रेफर कर दिया गया ,दूसरे दिन  उस रेलवे यात्री की मौत हो गई थी ,तत्कालिक मेडिकल सुविधा  उस वक्त अगर करगी रोड रेलवे स्टेशन  प्रबंधन  द्वारा दी जाती  तो शायद उस यात्री की जान बच सकती थी,और आज वह जिंदा होता।

रेल्वे जीएम के स्टेशन पर आने से बड़ी सरगर्मी:- सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली कि रेल्वे विभाग के जीएम करगी रोड रेलवे स्टेशन में उतरने की संभावना है, बस जैसे ही खबर मीडिया में आई रेलवे के जीएम का कारवां पेंड्रा की ओर बढ़ गया, हो सकता है स्टेशन प्रबंधन द्वारा अपने उच्च अधिकारियों को यह जानकारी दे दी रही होगी करगी रोड रेलवे स्टेशन में उतरने के बाद करगी रोड रेलवे स्टेशन में व्यापक अव्यवस्था के बारे में जनरल मैनेजर को शिकायत ना हो जाए इस कारण रेलवे के जीएम का करगी रोड रेलवे स्टेशन में उतरने का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया।

स्टेशन मास्टर के गलत आचरण की निंदा :- भारतीय जनता पार्टी के पर्यटन सलाहकार वेंकट अग्रवाल से स्टेशन मास्टर और प्रबंधन के द्वारा आमजनों और मीडिया से दुर्व्यवहार करने के बारे में सवाल पूछा गया तो उनके द्वारा स्टेशन मास्टर के गलत आचरण की निंदा की साथ ही उन्होंने रेलवे के उच्चाधिकारियों से स्टेशन मास्टर और प्रबंधन की शिकायत करने की बात भी कहीं।*

करगी रोड रेलवे स्टेशन में सुविधाओं का काफी अभाव है, स्टेशन मास्टर और प्रबंधन का व्यवहार यात्रियों के प्रति ठीक नहीं है, ट्रेनों से संबंधित जानकारी के बारे में कार्यालय में जाकर पूछने पर स्टेशन मास्टर द्वारा दुर्व्यवहार किया जाता है ,एक्सप्रेस ट्रेन या सुपरफास्ट ट्रेन आने से पहले कौन सी बोगी कहां पर आएगी इसके बारे में स्टेशन प्रबंधक द्वारा कोई जानकारी प्रदान नहीं की जाती

आनंद अग्रवाल, युवा व्यवसायी

करगी रोड रेलवे स्टेशन में एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव के लिए रेलवे अधिकारी गंभीर दिखाएं,करगी रोड रेलवे स्टेशन में स्टेशन मास्टर  व प्रबंधन रेलवे यात्रियों के प्रति अपना व्यवहार में सुधार लाएं अन्यथा आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा आम जनो का साथ लेकर करगी रोड रेलवे स्टेशन में धरना प्रदर्शन किया जाएगा

हरीश चंदेल, कोटा विधानसभा प्रत्याशी, आम आदमी पार्टी

 

error: Content is protected !!