मशहूर लेखक मंटो की जयंती पर दो नाटको का मंचन वृंदावन हाल मे आज

०० वृंदावन हाल सिविल लाईन्स रायपुर में शाम 7 बजे से रचना मिश्रा के निर्देशन मे किया जायेगा मंचन

रायपुर। उर्दू अदब के मशहूर लेखक सआदत हसन मंटो की जयंती के अवसर 11 मई को वृंदावन हाल सिविल लाईन्स रायपुर में शाम 7 बजे से रचना मिश्रा के निर्देशन मे सआदत हसन मंटो की रचनाओं पर आधारित दो नाटकों का मंचन किया जायेगा । छत्तीसगढ़ फ़िल्म एन्ड विजुअल आर्ट सोसायटी  की इस नाट्य प्रस्तुति मे मंटो की कहानी “ बादशाहत का ख़ात्मा पर आधारित नाटक जिसका नाटय रूपातंरण अख़्तर अली ने किया है के साथ ही मंटो का लिखा एक और नाटक “बीमार “का मंचन भी किया जायेगा।

छत्तीसगढ़ फ़िल्म  एन्ड विजुअल आर्ट सोसायटी के अध्यक्ष और वरिष्ठ रंगकर्मी  सुभाष मिश्रा ने बताया है कि उर्दू अदब के मशहूर और बेबाक़ लेखक सआदत हसन मंटो के जन्मदिन  के अवसर पर पूरे देश मे मंटो की कहानियों के नाट्य मंचन ,मंटो पर बातचीत होने जा रही है । मंटो का जन्म 11 मई 1912 को समराला मे हुआ और मृत्यु 18 जनवरी 1955 को लाहौर मे । मंटो अपने बारे मे लिखते हैं “ वह शब्दों के पीछे ऐसे भागता है जैसे कोई जाली शिकारी तितलियों के पीछे । वे उसके हाथ नही आती । यही कारण है कि उसके लिखने मे सुंदर शब्दों की कमी है ।वह लट्ठमार है , जितने लट्ठ उसकी गर्दन पर पड़े हैं , उसने बड़ी ख़ुशी से सहन किये हैं ।”सआदत हसन अपनी लघु कथाओं, बू, खोल दो, ठंडा गोश्त और चर्चित टोबा टेकसिंह के लिए प्रसिद्ध हुए। कहानीकार होने के साथ-साथ वे फिल्म और रेडिया पटकथा लेखक और पत्रकार भी थे। अपने छोटे से जीवनकाल में उन्होंने बाइस लघु कथा संग्रह, एक उपन्यास, रेडियो नाटक के पांच संग्रह, रचनाओं के तीन संग्रह और व्यक्तिगत रेखाचित्र के दो संग्रह प्रकाशित किए।

कहानियों में अश्लीलता के आरोप की वजह से मंटो को छह बार अदालत जाना पड़ा था, जिसमें से तीन बार पाकिस्तान बनने से पहले और बनने के बाद, लेकिन एक भी बार मामला साबित नहीं हो पाया। मंटो आज बहुत प्रासंगिक लगते हैं यही वजह है की जगह जगह देश की सीमाओं से परे उनकी रचनाओं की बात , नाट्य मंचन हो रहे हैं ।दोनो नाटको का निर्देशन कर रही रंगकर्मी श्रीमती रचना मिश्रा ने बताया कि “बादशाहत का खात्मा”  में छत्तीसगढी सिनेमा के चर्चित कलाकार रंग अभिनेत क्रांति दीक्षित और शैल सोनी अभिनय करते नज़र आएंगे।मंटो की कहानी पर आधारित यह गंभीर प्रस्तुति है जिसे हमारे बीच के नाटय लेखक अख्तर अली ने नये सिरे से लिखकर तैयार किया है ।एक दूसरी प्रस्तुति के रूप मे मंटो द्वारा रेडियो नाटक के रूप मे लिखे गये नाटक ” बीमार” जिसमें हास्य का समावेश का मंचन किया जा रहा है ।इस नाटक मे 13 कलाकारो की भागीदारी है। जो कलाकार बीमार नाटक मे अभिनय कर रहे हैं उनमें  साकेत साहू,रवि शर्मा,हेमन्त यादव धीरेंद्र गिरि गोस्वामी, मोनिका जैन,कौशल विश्वकर्मा,भुवन साहू,अनुभव मोती,अलका दुबे,केदार पटेल,अभिषेक मोती,नरेश साहू,मनीषा दुबे शामिल हैं ।

 

error: Content is protected !!