राज्य में चल रहे निर्माण कार्य निम्नस्तरीय, मापदंडों एवं गुणवत्ता का नहीं हो रहा पालन : कांग्रेस

० छत्तीसगढ़ में चरम पर कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में जितने भी विभागवार निर्माण कार्य चल रहे हैं उन सभी कार्यों की गुणवत्ता निम्नस्तरीय है, मापदंडों का कहीं पालन नहीं हो रहा है। जिनके जिम्मे कार्यों की गुणवत्ता जांचने की जिम्मेदारी है, वहीं से भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी का सिलसिला शुरू हो जाता है जो आला दर्जे तक पहुंचता है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण बालोद जिले में गुंडरदेही ब्लॉक के ग्राम खर्रा में देखने में आया है जहां डेढ़ करोड़ की लागत से निर्मित पानी टंकी में पहली बार भरने के दौरान ही टंकी भरभराकर धराशायी हो गई और दो बच्चों की जान भी चली गई। कांग्रेस ने इस दुखद घटना पर अफसोस जताया है और मांग की है कि बच्चों के परिजनों को पर्याप्त मुआवजा प्रदान किया जाए और घटना की उच्चस्तरीय जांच भी हो। 

प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि इस सरकार में भ्रष्टाचार और कमीशनखारी चरम पर है जिनसे पारदर्शी जांच की उम्मीद करना बेमानी है, सभी एक ही थाली के चट्टे-बट्टे हैं। काम की आड़ में नीचे से लेकर ऊपर तक केवल कमीशनखारी हो रही है। लोगों के समक्ष जान-माल की सुरक्षा एक बड़ी चुनौती है। पर इस अर्कमण्य रमन सरकार को इसकी जरा भी परवाह नहीं है। सड़क, नहर, आवास, शौचालय, पुल-पलिया, तालाब, बांध, एनीकट, बोरखनन, कुंआ निर्माण, भवन निर्माण सहित सभी कार्यों पर गुणवत्ता और मापदंडों को लेकर प्रश्नचिन्ह लगा हुआ है। लागत से अधिक बजट होने के बाद भी निर्माण कार्यों की वास्तविकता सर्वविदित है।

 

error: Content is protected !!