जल संकट को लेकर छत्तीसगढ़ के दूरस्थ अंचलों में त्राहिमाम: कांग्रेस

०० इंसान और जानवर एक ही जगह का पानी पीने को मजबूर: कांग्रेस

०० सरकार की लापरवाही से लोग प्रदूषित पानी पीकर पीलिया, डायरिया, टाईफाइड आदि रोगों की चपेट में

रायपुर।  प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि वर्ष 2003 के अंत में जब छत्तीसगढ़ में डॉ. रमन सिंह ने मुख्यमंत्री के पद की शपथ ली थी तब किसी ने कल्पना नहीं की थी कि एक चिकित्सक के राज्य का मुख्यमंत्री बनने के बाद स्वास्थ्य सेवाओं की इतनी बदहाल स्थिति होगी। राजधानी सहित सुदूर वंनाचल तक पीलिया जैसे रोग से लोग जूझेंगे। लोगों को शुद्ध पेयजल नसीब नहीं होगा और स्वास्थ्य को लेकर चिंताजनक स्थिति बनेगी। बड़े-बड़े स्वास्थ्य स्कैंडल होंगे पर यह सच्चाई है कि लगभग डेढ़ दशक तक छत्तीसगढ़ में सत्ता का सुख भोगने के बाद भी स्वास्थ्य सुविधाएं निराशाजनक हैं और शुद्ध पेयजल से जनता वंचित है। सरकार की उदासीनता और लापरवाही के चलते छत्तीसगढ़ के दूरस्थ अंचलों में जानवर और इंसान एक ही घाट का पानी पीने को मजबूर हैं। जल संकट को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में त्राहिमाम मचा है। शुद्ध पेयजल की अनुपलब्धता, हैंडपंप से गंदा पानी आने, बिगड़े पंपों की मरम्मत न होने, कुंआ, पोखर, तालाबों के सूखने की वजह से नदी-नालों में गढ्ढा खोदकर पेयजल एवं निस्तार की व्यवस्था करने को ग्रामीण विवश हैं। नदी-तालाबों, कुंओं में जो भी पानी है वो भी प्रदूषित है। यदि पेयजल एवं नहाने के के रूप में इसका इस्तेमाल करते हैं कई तरह की परेशानियों से पीड़ित हो रहे हैं। शहर हो अथवा गांव सभी ओर प्रदूषित जल के सेवन से लोग जल-जनित रोगों की चपेट में आ रहे हैं। फलस्वरूप टाइफाईड, पीलिया, पेचिश, डायरिया, खसरा, हैजा, चिपकनपॉक्स, डिहाइडे्रशन एवं एलर्जी सहित अन्य रोगों से ग्रसित हो रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि यह छत्तीसगढ़ के लिए दुर्भाग्यजनक स्थिति है कि यह सरकार लोगों को शुद्ध पेयजल एवं निस्तार के लिए पर्याप्त पानी का बंदोबस्त करने में असफल है जबकि पानी की उपलब्धता बढ़ाने बजट में भारी-भरकम प्रावधान किया गया है। बारिश को अभी डेढ़ माह शेष है लेकिन वैकल्पिक व्यवस्था नहीं होने से प्रदूषित जल के सेवन की मजबूरी है। यही कारण है कि ग्रामीणों को पेट संबंधी अन्य बिमारियां घेर रही हैं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिक एवं स्वास्थ्य विभाग की गैर जिम्मेदारी का खामियाजा जनता भुगतने को बेबस है। कांग्रेस ने इसे सरकार की अकर्मण्यता निरुपित करते हुए गांवों, कस्बों में तत्काल शुद्ध पेयजल एवं स्वास्थ्य सुविधा मुहैय्या कराने की मांग की है।

 

 

error: Content is protected !!