सरकार धर्मान्तरण करने वाली ताकतों का करे खुलासा: कांग्रेस

०० मुख्यमंत्री का बयान गैरवाजिब एवं दुर्भाग्यजनक: कांग्रेस

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि पत्थलगड़ी आंदोलन के मामले में मुख्यमंत्री का यह बयान कि यह आंदोलन धर्मान्तरण करने वाली ताकतों की साजिश है, नितांत गैरवाजिब एवं दुर्भाग्यजनक है यदि ऐसा है तो सरकार को साजिश का खुलासा करना चाहिए। अगर असंवैधानिक कार्य हो रहा है तो कार्रवाई कर मामले को उजागर करना चाहिए। झारखंड और छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार है। क्या पत्थलगड़ी आंदोलन शुरू होते ही इस सरकार को धर्मान्तरण का एहसास हुआ है? यदि ऐसे आंदोलन की सरकार को जानकारी थी तो समाज को नुकसान हो इसके पहले क्यो कदम नहीं उठाया गया? यदि वहां का आदिवासी समाज विकास की मांग कर रहा है और अपने हक के लिए सरकार के विरुद्ध आवाज उठाता है तो उसके साथ किया जा रहा दमनात्मक व्यवहार एवं गिरफ्तारी गलत है, कांग्रेस इसका विरोध करती है। सरकार का दायित्व है कि लोगों की जायज मांगों को पूरी कर अलोकतांत्रिक स्थिति को सामान्य बनाए, किन्तु ऐसा न करके प्रजातांत्रिक मूल्यों को कूचलने का कार्य सरकार द्वारा किया जा रहा है। 

कांग्रेस प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि पत्थलगड़ी आंदोलन की शुरुआत तो बस्तर से हुई है और इसके लिए बीजेपी के लोग जिम्मेदार हैं। भाजपा द्वारा पत्थलगड़ी आंदोलन को गलत दिशा में परिवर्तित कर मामले को संवेदनशील बनाने का कार्य किया जा रहा है। सरकार द्वारा आदिवासी अंचलों में विकास के नाम पर केवल लूट का कार्य किया जा रहा है। वनों को उजाड़ा जा रहा है, खनिज अयस्कों का सफाया हो रहा है और जब उनके द्वारा आवाज उठायी जाती है तब आंदोलन का गलत स्वरूप गढ़ा जाता है। आदिवासी समाज अब जागरूक हो गया है, इंसाफ और सच्चाई की आवाज बुलंद हो रही है जिसे दबाने के लिए सरकार के मुखिया द्वारा दुर्भाग्यजनक बयान दिया जा रहा है।

 

error: Content is protected !!