साजिश और अलोकतांत्रिक है पत्थरगड़ी प्रथा : रामसेवक पैकरा

०० विकास के नाम पर कुछ लोग आदिवासियों को उकसाने का कर रहे हैं काम

०० साजिश के खिलाफ जागरूक करने के लिए शनिवार से भाजपा निकालने जा रही पदयात्रा

रायपुर। सरगुजा क्षेत्र में चल रही पत्थरगड़ी प्रथा को प्रदेश के गृहमंत्री रामसेवक पैकरा ने साजिश और अलोकतांत्रिक बताया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लगातार आदिवासियों के उत्थान के लिए काम कर रही है।

प्रदेश भाजपा कार्यालय में गृहमंत्री पैकरा ने कहा कि विकास के नाम पर कुछ लोग आदिवासियों को उकसाने का काम कर रहे हैं। ये कुछ लोगों की साजिश है। जिसके जरिए ग्रामीणों को भड़काने का काम किया जा रहा है।छत्तीसगढ़ में पत्थरगड़ी प्रथा को लेकर इन दिनों भाजपा और कांग्रेस में लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है। इन्हीं बयानों के बीच ये गृहमंत्री का बयान आया है। अभी तक सरकार इस मामले में रुख पूरी तरह से स्पष्ट नहीं था, लेकिन अब राज्य सरकार ने साफ कर दिया है कि पत्थरगड़ी के जरिये गैरसंवैधानिक परंपरा को बढ़ाने पर शिकंजा कस सकती है। इससे पहले मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह  ने भी कहा था कि अगर पत्थरगड़ी को आदिवासी धार्मिक आयोजनों के रूप में रखते हैं, तो ठीक है। अगर ये अलोकतांत्रिक और गैर संवैधानिक हुआ, तो कार्रवाई होगी।

जागरूकता के लिए शनिवार से पदयात्रा :- केंद्रीय मंत्री विष्णुदेव साय ने राजधानी में कहा कि कुछ चिन्हित लोग आदिवासियों को भड़काने का काम कर रहे हैं। साय ने कहा कि भाजपा इस साजिश के खिलाफ जागरूक करने के लिए शनिवार से पदयात्रा निकालने जा रही है।ये पदयात्रा पचराम गांव से निकाली जाएगी और आसपास के गांवों में जाएगी। इसकी अगुवाई खुद साय करेंगे। उनके साथ स्थानीय और सरगुजा संभाग के भाजपा नेता शामिल होंगे।साय ने कहा कि भाजपा सरकार लगाता आदिवासियों के हित में काम कर रही है. लेकिन कुछ भोलेभाले लोगों को भड़काकर इसका फायदा उठाना चाहते हैं।

 

error: Content is protected !!