मनरेगा से किया गहरीकरण अब फलाईऐश से पाट रहे है तालाब

०० भदौरा जमीन घोटाले से जुड़े भूमाफिया व दलालों द्वारा षड्यंत्र कर तालाब की भूमि का किया जा रहा बंदरबांट

०० फोरलेन सड़क उड़ीसा संबलपुर को मिलायेगा, उसी रोड के निकट हैं तालाब,जिसे युद्ध स्तर पर किया जा रहा पटाई

०० बीस एकड़ क्षेत्र में फैले तालाब की जमीन है करोडो की, बेशकीमती जमीन पर है भूमाफिया की नज़र

बिलासपुर।  जनपद पंचायत मस्तुरी के ग्राम भदौरा जो प्रदेश भर में  सरकारी जमीन बेचने के मामले में विख्यात हैं, जहा फिर से सड़क मार्ग से लगे हुए तीन तालाब है। तालाब के पास से ही फोरलेन निकलने के बाद इन तालाबों को पाटने का काम शुरू हो गया है। यह पुरा खेल बेहद गोपनिय तरीके से किया जा रहा है।इस तालाब को पाटकर बेशकीमती जमीन का बंदरबांट करने के लिए भूमाफिया व दलालों के द्वारा षड्यंत्र के तहत तालाब की जमीन को फ्लाईऐश से दबाकर वृक्षारोपण की तैयारी की जा रही है जबकि सभी को ज्ञात है कि फ्लाईऐश की मिटटी से कभी भी वृक्षारोपण संभव ही नहीं है ऐसे में इस बेशकीमती जमीन का बंदरबांट की आशंका प्रबल होती नज़र आ रही है|

जनपद पंचायत मस्तुरी के ग्राम भदौरा में वर्ष 2005 में इन्हीं तालाबों को मनरेगा की फंड से गहरीकरण किया गया था और नीति के तहत इस काम में किसी मशीन का उपयोग नही हुआ। सड़क से लगे हुए एक नही तीन तालाब तीनो शासकीय खाते में दर्ज है तथा मिसल में भी इन्हें तालाब ही कहा गया है। एक तालाब में तो 2017 में भी शासकीय मद से गहरी करण का काम हुआ था। अभी कुछ दिन पूर्व लोगो को ज्ञात हुआ की यहां से फोरलेन निकलेगा। उसी के बाद कुछ लोगो ने पंचायत से मिली भगत कर इन तालाबों में मिट्टी पटाई के साथ वृक्षा रोपण की योजना बना डाली। तमाम औपचारिक्ता को दरकिनारा कर बिलासपुर की एक ठेकेदार को तालाब में मिट्टी भी नही फलाईऐश डालने का ठेका भी दे दिया गया है। कुछ ग्रामीणों को अशंका है कि पाटने के पीछे एक भू-माफिया का हाथ है। जब सब जानते है कि तालाब का मद परिवर्तन नही किया जा सकता तो तालाब के अंदर तरफ वृक्षा रोपण के लिए पटाव का काम क्यों किया जा रहा है। पहले शासन ने मनरेगा के मद से तालाबों को गहरा किया और अब फलाईएश जैसी वेस्ट मटेरियल से उसे पाट रहे है। इस गोरख काम को वृक्षा रोपण के लिए बताया जा रहा है। प्रथम दृष्टियां यह पुरा मामला गड़बड़ नजर आता है। ग्रामीण आशंका व्यक्त करते है कि निश्चित रूप से तालाब के खसरे में छेड़खानी की गई है। बिना छेड़खनी के तालाब में मिट्टी पटवाने का काम कोई नही करता। ग्रामीणों का कहना हैं हमारा गाँव को कुछ चंद लोंग ही बदनाम कर रहे हैं,जो जमीन घोटाले के नाम पर हमारा भदौरा को बदनाम किया हुआ है, जिनके द्वारा ये भी बोला जाता हैं, हमलोंग राजस्व विभाग के अधिकारियों को नोट दिए हैं हमारा कौन क्या कर सकता हैं,

इनका कहना है……………..

“किसी भी तालाब को पाट कर उस पर वृक्षा रोपण किया जा रहा है ऐसी जानकारी मुझे नही है। भदौरा में जिन तालाबों की चर्चा आप कर रहे है। उन्हें तत्काल दिखाया जाएगा और यदि कोई भी तालाब नियम विरूद्ध तरीके से पाटा जा रहा है तो तत्काल कार्यवाही की जाएगी”| 

मोनिका वर्मा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत मस्तुरी

दोषियों को बख्शा नही जाएगा …….

“उक्त तालाब में फ्लाईएश का उपयोग कर पाटने की जानकारी अभी मिली हैं, जांच करवाते हैं, दोषियों के ऊपर सख्त कार्यवाही की जाएगी”|

श्री डाहीरे, एसडीएम, मस्तूरी  

error: Content is protected !!