मस्तुरी विधायक जनसंपर्क यात्रा पर, नागरिक मांग रहे अपने दिए वोट का हिसाब

०० विधायक ने की विधायक निधी का 70 प्रतिशत की घोषणा पर नहीं हुआ घोषणा पर अमल

०० स्थानीय विधायक का जिला प्रशासन पर नही है कोई पकड़, इसलिए मस्तुरी विधानसभा का नहीं हुआ विकास

बिलासपुर। मस्तुरी क्षेत्र के विधायक इन दिनो अपनी साख को बचाने में लगे है। वे अपने बिखरे हुए जनाधार को बचाने पदयात्रा में है। एक समय उनके पास दर्जनों कार्यकर्ता तथा समर्थक थे पर अब इनकी संख्या बेहद सीमित हो गई है। वे गांव के गली मोहल्लों में घूम कर भारतीय जनता पार्टी के दमनकारी शासन की बात करते है पर जनता उनसे उनके द्वारा की गई घोषणा पर काम न होने पर चर्चा करना चाहती है।

गौरतलब है कि मस्तुरी विधायक दिलीप लहरिया ने अपनी विधायक निधी का 70 प्रतिशत घोषणा कर रखी है पर किसी भी घोषणा पर अमल नही हुएं। यहां तक जिस गांव को आदर्श गांव के रूप में विकसित करने गोद लिया उसकी भी हालत पूर्व की अपेक्षा सुधरने की जगह बिगड़ी है। पहले जिन साथियों के साथ पार्टी के लिए वोट मांगा आज उन साथियों में से कई अन्य राजनैतिक दल में चले गए। वे ग्रामीणों को बार-बार यही बताते है कि स्थानीय विधायक की जिला प्रशासन पर कोई पकड़ नही है। यही कारण है कि मस्तुरी का विकास नही हो सका। क्षेत्र के जानकार यह कहते है कि कांग्रेस को यदि यहां चुनाव में सफलता पानी है तो वर्तमान विधायक का टिकट बदलना ही एक मात्र रास्ता है।

error: Content is protected !!