प्रदेश की 42 प्रतिशत आबादी को मिलेगी चिकित्सा सुविधा : डॉ रमन सिंह

०० आयुष्मान भारत योजना, मुख्यमंत्री एन.डी.टी. सम्मेलन में हुए शामिल

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राजधानी में नेफ्रोलाजी डायलोसिस और ट्रांसप्लांटेशन पर आयोजित चिकित्सीय सम्मेलन का शुभारंभ किया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ तेजी से आगे बढ़ रहा है। यहां नए हॉस्पीटल आ रहे हैं। विशेषज्ञ चिकित्सकों की संख्या भी बढ़ रही है। इससे राज्य में ही चिकित्सा बेहतर सुविधा उपलब्ध होने लगी है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने आयुष्मान भारत योजना का उल्लेख करते हुए बताया कि योजना में छत्तीसगढ़ की 42 प्रतिशत आबादी और बस्तर-सरगुजा क्षेत्र में 75 प्रतिशत की आबादी इस योजना के दायरे में होगी। इस योजना में प्रत्येक परिवार को 5 लाख रूपए तक की चिकित्सा सुविधा मिलेगी।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बताया कि आज के दौर में प्रदेश के पिछड़े और नक्सल प्रभावित क्षेत्र में अलग अलग राज्यों के प्रतिष्ठत चिकित्सक आकर अपनी सेवाएं दे रहें है। यहां बंगलोर और जम्मू कश्मीर आदि स्थानों के 30-32 चिकित्सक दिन रात मेहनत कर रहे हैं। बीजापुर के जिला अस्पताल में जहां ओ.पी.डी.का औसत 10-15 रहता था वहां आज हर माह तीन सौ सर्जरी हो रही है। उन्होंने कहा कि राज्य के बस्तर अंचल में विकास कार्यों के जरिए जीवन आसान हो रहा है। बस्तर में कनेक्टिविटी को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई है। आने वाले समय में बस्तर क्षेत्र एक विकसित और नैसर्गिक खूबसूरती वाला जिला होगा। उन्होंने इस अवसर पर चिकित्सकों को सम्मेलन की सफलता के लिए शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर चिकित्सकों और स्वंयसेवी संस्थाओं को सस्ते दर पर डायलोसिस सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सम्मानित किया। इस अवसर पर डॉ. संदीप दबे, डॉ अशोक त्रिपाठी, डॉ कल्याण सेनगुप्ता सहित बड़ी संख्या में विभिन्न क्षेत्रों से आए चिकित्सक उपस्थित थे।

 

error: Content is protected !!