छत्तीसगढ़ के साथ गुजरात का सैकड़ो वर्षों से है अटूट संबंध : डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री डॉ. सिंह और गुजरात के मुख्यमंत्री रूपाणी ने राजधानी में किया सदाकाल गुजरातकार्यक्रम का शुभारंभ

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राजधानी के साईंस कॉलेज परिसर स्थित पं. दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में ‘सदाकाल गुजरात’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया। यह कार्यक्रम गुजरात राज्य के अप्रवासी फाउंडेशन द्वारा. आयोजित है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. सिंह और मुख्यमंत्री श्री रूपाणी द्वारा एक भारत-श्रेष्ठ भारत के अंतर्गत छत्तीसगढ़ और गुजरात राज्य की संस्कृतियों पर प्रकाशित कॉफी-टेबल बुक तथा सीडी का विमोचन भी किया गया।

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य के साथ गुजरात का सैकड़ों वर्षों से गहरा नाता रहा है। यहां रायपुर में वसुधैव कुटुम्बकम की भावना से ओत-प्रोत ‘सदाकाल गुजरात’ कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है। यह कार्यक्रम दोनों राज्यों के बीच सामाजिक-सांस्कृतिक गतिविधियों के संचार के लिए महत्वपूर्ण साबित होगा। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बताया कि छत्तीसगढ़ में विभिन्न जिलों और हिस्सों में गुजरात के लोग बड़ी संख्या में निवासरत हैं। वे छत्तीसगढ़ में रच-बसकर छत्तीसगढ़ के विकास में अपना योगदान दे रहे हैं।  मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, देश के प्रथम गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का उल्लेख किया और गुजरात की भूमि को पूरे देश और दुनिया में अच्छा नेतृत्व प्रदान करने वाला बताया। उन्होंने गुजरात के लोगों के समरसता की भावना और कर्मठता की भी सराहना की। गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने कहा कि महात्मा गांधी ने पूरे भारत में चेतना जगाई और जिस तरह से सरदार वल्लभ भाई पटेल ने देश के रजवाड़ों को भारत में शामिल कराया उसी प्रकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने एक भारत श्रेष्ठ भारत योजना के जरिए भारत की अनेकता में एकता को एक सूत्र में पिरोने और नया भारत के निर्माण के लिए कार्य कर रहे है। उन्होंने कहा कि देश के राज्यों के लोगों को सांस्कृतिक रूप से जोड़ने और समरसता के लिए ही सदाकाल गुजरात का आयोजन किया जा रहा है। रूपाणी ने कहा कि देश के विभिन्न हिस्सों में बसे गुजरात के लोगों को जोड़ना और देश के विभिन्न हिस्सों में बसे लोगों से गुजरात के विकास में भागीदारी सुनिश्चित करना भी इस कार्यक्रम का उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि गुजरात के लोगों ने हमेंशा देश हित को सर्वोपरि रखा है। राष्ट्रहित और लोकहित में हमेंशा बढ़चढ़ कर योगदान दिया है। समारोह में उन्होंने गुजरात सरकार द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों एवं उपलब्धियों की विस्तार से जानकारी दी। रूपाणी ने छत्तीसगढ़ की सार्वजनिक वितरण प्रणाली की प्रसंशा करते हुुए कहा कि यह प्रणाली देश में सर्वश्रेष्ठ है। उन्होंने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नेतृत्व में प्रदेश में सभी वर्गों के विकास के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रमों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि सदाकल गुजरात के जरिए दोनों ही राज्यों को एक दूसरे के अधिक निकट आने और सीखने-समझने का मौका मिलेगा।  इस अवसर पर श्री रूपाणी ने गुजरात के लोगों को चिकित्सा, साहित्य, खेल, सामाजिक कार्य सहित विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाले सामाज के लोगों को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया। कार्यक्रम में गुजरात के एनआरजी प्रभाग के राज्यमंत्री श्री प्रदीप सिंह जाडेजा, गुजरात के मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती अंजली रूपाणी, छत्तीसगढ़ के लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत, छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष और छत्तीसगढ़ एनआरजी के अध्यक्ष तथा विधायक श्री देवजी भाई पटेल, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्री धरमलाल कौशिक, श्री रमेश मोदी सहित समाज के पदाधिकारी सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

 

error: Content is protected !!