भाजपा राज में महिलाएं-बच्चियाँ असुरक्षित: छाया वर्मा

०० राज्य में मासूम बच्चियों के साथ बढ़ रही अनाचार की घटनाओं पर सांसद छाया वर्मा ने व्यक्त किया आक्रोश

०० भाजपा नेता है दुष्कर्म का आरोपी, सरकार दे रही है आरोपी को संरक्षण

रायपुर। राज्य में मासूम बच्चियों के साथ बढ़ रही अनाचार की घटनाओं पर सांसद छाया वर्मा ने गहरा आक्रोश व्यक्त किया है। भाजपा सरकार महिलाओं को सुरक्षित वातावरण देने में नाकामयाब हो गयी है। राजधानी रायपुर में एक सात साल की मासूम बच्ची के साथ बलात्कार की शर्मनाक घटना हो गयी। कवर्धा में भी नाबालिग बच्ची के साथ दुराचार की घटना हुयी। बीजापुर जिले के भोपालपट्टनम में एक नाबालिग लड़की के साथ दुराचार की घटना हुई। बलात्कार का आरोपी प्रकाश मलिक भाजपा का नेता बताया जाता है। प्रदेश के मंत्री महेश गागड़ा के साथ उसकी तस्वीर समाचार माध्यमों में प्रचारित है। बीजापुर पुलिस के द्वारा आरोपी पर धारा 376, 506 का मुकदमा दर्ज किये जाने के बाद 15 दिनों से गिरफ्तारी नहीं हो रही। कांग्रेस पार्टी का आरोप है कि इस बलात्कार के आरोपी को भारतीय जनता पार्टी की सरकार संरक्षण दे रही है, जिनके उपर महिलाओं की सुरक्षा की जवाबदारी है वही लोग महिलाओं, बच्चों की इज्जत से खिलवाड़ कर रहे हैं। 

कांग्रेस भवन में पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए सांसद छाया वर्मा ने कहा कि राजधानी रायपुर कवर्धा तखतपुर भोपालपटनम में बच्चियों के साथ दुष्कर्म और उनकी हत्या की घटनाएं हो रही है। पिछले 3 दिनों में राजधानी रायपुर मुख्यमंत्री के गृह जिला कवर्धा, तखतपुर, में बच्चियों के साथ दुष्कर्म का और उनकी हत्या जैसे भयावह वीभत्स अपराध की घटनाये हुयी है। कहते थे बहुत हुआ नारी पर वार अबकी बार मोदी सरकार लेकिन अब खुद करते हैं, नारी पर वार बलात्कारी हैं, इनके यार यह है, रमन सरकार यह है, मोदी सरकार भोपालपटनम में मंत्री महेश गागड़ा के निकटस्थ भाजपा कार्यकर्ता प्रकाश मलिक का मामला है जिस पर भोपालपटनम थाने में 376, 506 बी और पास्को एक्ट का मामला दर्ज है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ कहने वाली भाजपा सरकार के मंत्री महेश गागड़ा बलात्कार के आरोपी प्रकाश को अपने साथ लेकर घूमते रहे हैं। पुलिस मंत्री के दबाव में है मंत्री के दबाव के कारण ही 15 दिन तक तो रिपोर्ट नहीं लिखी गई। भोपालपट्टनम के पहले बीजापुर में पैदा कस्तूरबा बालिका आश्रम बीजापुर में छात्राओं के साथ बलात्कार की घटना सामने आई थी जिसमें कलेक्टर द्वारा बलात्कार करने वालों को संरक्षण दिया गया था। कांग्रेस ने इसका विरोध किया था। महिला बालविकास मंत्री द्वारा पत्र लिखने जैसी औपचारिकता निभाने के बजाय अब ऐसे मामलों में ठोस कदम उठाने की जरूरत है। इन घटनाओं के लिए भाजपा सरकार की लचर कानून व्यवस्था जिम्मेदार है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उन्नाव और कठूआ जैसी घटनाएं छत्तीसगढ़ में भी घट रही हैं। रमन सरकार इन्हें रोक पाने में विफल रही है। पूरे देश में जहां जहां भाजपा की सरकारें हैं उन राज्यों में महिलाओं और बच्चियों के साथ अनाचार की घटनाएं ज्यादा हो रही है। छत्तीसगढ़ में एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक हर दिन 6 महिलाएं बलात्कार का शिकार होती हैं। 27000 महिलाएं और बालिकाएं लापता हैं। महिला और बच्चों को सुरक्षा देने में छत्तीसगढ़ की रमन सिंह सरकार विफल रही है। छत्तीसगढ़ के झलियामारी और आममुड़ा बालिका आश्रम में हुए सामूहिक अनाचार मीना खलको मडकम हिड़मे पैदागेलूर, जैसी घटनाओं के बाद भी महिलाओं की सुरक्षा को लेकर रमन सरकार ने कोई कदम नहीं उठाए हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में निर्भया रेप कांड को भाजपा ने बड़ा मुद्दा बनाया था। निर्भया कांड में तो कोई कांग्रेसी आरोपी नहीं था। किसी कांग्रेसी द्वारा आरोपी के संरक्षण की बात भी सामने नहीं आई थी। लेकिन कठूआ उन्नाव और अब भोपालपटनम में या तो भाजपा से जुड़े लोगों के आरोपी होने या भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री मंत्री द्वारा आरोपियों के संरक्षण का मामला उजागर हुआ है।

 

error: Content is protected !!