गंदे नाले के पानी के बीच बैठने को मजबूर सप्ताहिक बाजार में सब्जी व्यापारी

०० कल ही प्रदेश के मुखिया ने मरार समाज के कार्यक्रम में शिरकत की थी कोंनचरा में

०० कोटा नगर पंचायत के अंतर्गत लगता है,सप्ताहिक बाजार, ग्रामीण सब्जी व्यापारी की होती है आमद

करगीरोड कोटा। विगत दिनों प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा कोटा विकासखंड के ग्राम पंचायत कौनचरा में शाकंभरी महोत्सव के अवसर पर मरार समाज के लोगों को संबोधित करते हुए पूरे छत्तीसगढ़ में बाजारों में ठेकेदार द्वारा पैसे वसूले जाते थे, उसको निरस्त कर दिया चाहे वह नगर निगम, नगर पालिका ,नगर पंचायत ,ग्राम पंचायत ,स्तर पर सभी जगह ठेकेदारी समाप्ति की घोषणा की जिससे कि मरार समाज ने खुशी जाहिर की पर जैसा कि प्रत्यक्ष रुप से बाजारों में  देखने को मिली आज मरार समाज के सब्जी व्यापारियों द्वारा  जानकारी मिली कि अभी भी गांव में लगने वाले हाट बाजारों में जबरन पैसे वसूली की जा रही है। हो सकता है प्रदेश के मुखिया का उद्बोधन व आदेश उन ठेकेदारों  या जनप्रतिनिधियों तक नहीं पहुंचा हो|

आज कोटा नगर पंचायत के अंतर्गत सोमवारी बाजार मैं कोई ठेकेदार ने पैसे तो नहीं वसूले पर आज सोमवारी बाजार में गंदगी का आलम बस स्टैंड के समीप बाजार पारा वार्ड नंबर 7 में सब्जी दुकानदारों को दुकान गंदी नाली के पानी के बीच लगाना पड़ा शायद इसकी जानकारी मुख्य नगर पंचायत अधिकारी को नहीं थी,या नगर पंचायत अधिकारी को जानकारी नहीं दी गई थी, पर सोमवार को लगने वाले बाजार के सुबह साफ सफाई दिखती थी, दोपहर को थोड़ा मौसम ने करवट ली हल्की फुल्की बारिश हुई पर बारिश से पहले ही नालियों के गंदे पानी के बीच सभी दुकानदारों को दुकान लगाना पड़ा कोटा नगर पंचायत के अंदर लगने वाला सप्ताहिक बाजार में आसपास के ग्रामीण लोग वह कोटा शहर के लोग भी सब्जी खरीदी में पहुंचते हैं। या तो एक वजह यह भी हो सकती है कि ठेकेदार के रहने से साफ-सफाई बेहतर होती थी, ठेकेदारी समाप्त होने से नगर पंचायत कोटा को भी राजस्व की हानि पहुंची है ,यह भी एक कारण हो सकता है, इस वजह से साफ सफाई में ध्यान नहीं दी गई मजबूरी वश ग्रामीण सब्जी व्यापारियों को गंदे नाली के पानी के बीच अपनी दुकान लगानी पड़ी,आज स्वच्छ भारत मिशन अभियान को भी कहीं ना कहीं धक्का लगा होगा की पूरे देश में चलने वाला स्वच्छ भारत मिशन जिसमें कि छत्तीसगढ़ को साफ सफाई में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है, दिल्ली की सर्वे टीम द्वारा सर्वे करने के पश्चात पर मौसम के बदलते ही आंधी तूफान के आने से ही नालियों का पानी सड़कों पर आ जाता है, और सड़कों के बीचो-बीच बड़े-बड़े गड्ढों को कचरों से पाट देता है ,गड्ढे पाटने में लोक निर्माण विभाग  भले ही संज्ञान ना ले पर कुदरत संज्ञान लेकर कचरे से कुछ समय के लिए गड्ढों को पाठ देता है।

 

error: Content is protected !!