जनता के आशीर्वाद से लोक सुराज हुआ अपने उद्देश्यों में सफल : डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री ने अभियान के समापन समारोह में जनता को दी 102 करोड़ के निर्माण कार्यों की सौगात

०० राष्ट्रीय राजमार्ग पर 54 करोड़ के विशाल फ्लाई ओव्हर का लोकार्पण, गांधी सभागृह सहित कई भवन भी हुए लोकार्पित
०० सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट और शासकीय नर्सिंग कॉलेज भवन सहित कई निर्माण कार्यों का भूमिपूजन

रायपुर| मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने तीन चरणों में लगभग ढाई माह तक चले प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान के समापन समारोह में आज कहा कि जनता के आशीर्वाद से ही राज्य सरकार का यह अभियान अपने उद्देश्यों में शत-प्रतिशत सफल हुआ है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर राजनांदगांव जिले की जनता को लगभग 102 करोड़ रूपए के विभिन्न विकास और निर्माण कार्यों की सौगात दी। डॉ. सिंह ने इनमें से 54 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित फ्लाई ओव्हर का भी लोकार्पण किया। इस फ्लाई ओव्हर का निर्माण जिला मुख्यालय राजनांदगांव में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के सहयोग से मुम्बई-कोलकाता राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 53 पर किया गया है।
    मुख्यमंत्री ने महंत सर्वेश्वरदास स्कूल परिसर में आयोजित लोक सुराज अभियान के समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा -गांवों और शहरों में जनता के बीच जाकर जनता के लिए शासन द्वारा संचालित योजनाओं के बारे में जनता से फीडबैक लेना और योजनाओं की जमीनी स्थिति को देखना इस अभियान का मुख्य उद्देश्य रहा। मुझे पूरे अभियान में राज्य के सभी 27 जिलों में यह देखने को मिला कि प्रत्येक घर में बिजली पहुंच रही है और सभी गरीब परिवारों को पर्याप्त चांवल भी मिल रहा है।
अभियान के तहत मैं प्रदेश के जिन गांवों और समाधान शिविरों में पहुंचा, वहां मुझे बुजुर्गों का भी आशीर्वाद मिला। एक समाधान शिविर में 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला मेरे पास आयी और उन्होंने कहा कि एक ऐसा भी समय था, जब मेरे बच्चों को भूखे रहना पड़ता था, लेकिन जब से मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना के तहत एक रूपए किलो में चावल मिलने लगा है, मेरे घर में भी बच्चे अब चैन की नींद सोते हैं। उस बुजुर्ग महिला को स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत स्मार्ट कार्ड मिला है। उनके घर में उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्शन और सिलेण्डर भी है। उस बुजुर्ग महिला ने जब मुझे आशीर्वाद दिया तो लगा कि जनता के आशीर्वाद से ही लोक सुराज अभियान सफल हुआ है। डॉ. सिंह ने समारोह में 12 करोड़ 95 लाख रूपए की लागत से शहर में बनने वाले अकादमिक परिसर का भूमिपूजन किया। इस परिसर में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए छात्र-छात्राओं को प्रशासन की ओर से कोचिंग आदि की सुविधाएं दी जाएंगी। परिसर में सेंट्रल लाईब्रेरी और सेमिनार हाल सहित छात्रावास भी बनाया जाएगा। डॉ. सिंह ने कार्यक्रम में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की स्मृति में एक करोड़ 45 लाख रूपए की लागत से निर्मित गांधी सभा गृह और कमला कॉलेज के लिए 60 लाख रूपए की लागत से निर्मित ऑडिटोरियम और एक करोड़ 27 लाख रूपए की लागत से शासकीय जिला अस्पताल परिसर में निर्मित 100 बिस्तरों वाले मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य अस्पताल का भी लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री के हाथों लोकार्पित निर्माण कार्यों में एक करोड़ 94 लाख रूपए की लागत से निर्मित आईटीआई छात्रावास, ग्राम मुगलानी (विकासखण्ड-डोंगरगढ़) में 49 लाख 75 हजार रूपए की लागत से निर्मित नवीन हाईस्कूल भवन सहित जिले के विभिन्न क्षेत्रों से संबंधित कई निर्माण कार्य शामिल हैं।
    डॉ. सिंह ने 12 करोड़ 49 लाख रूपए की लागत से बनने वाले राजनांदगांव शहर के सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट, 12 करोड़ 82 लाख रूपए की लागत से बनने वाले शासकीय नर्सिंग कॉलेज भवन, ग्राम बरबसपुर (विकासखण्ड-डोंगरगढ़ ) के लिए 30 लाख रूपए की नल-जल योजना, राजनांदगांव के पास शिवनाथ नदी के किनारे ग्राम मोहारा में 50 लाख रूपए की लागत से बनने वाले विसर्जन कुंड  और सौंदर्यीकरण के कार्यों का भी भूमिपूजन और शिलान्यास किया। उन्होंने सौभाग्य योजना के तहत जिले की 14 ग्राम पंचायतों के शत-प्रतिशत विद्युतीकरण पर वहां के सरपंचों को प्रमाण पत्र भी दिए। इसके अलावा उन्होंने तीन हितग्राहियों को कृषि यंत्र सेवा केन्द्रों की स्थापना के तहत हार्वेस्टर, ट्रेक्टर, पैडी ट्रांसप्लांटर, मल्चर और अन्य कृषि उपकरणों का भी वितरण किया। मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में राजनांदगांव शहर और जिले के विकास में सक्रिय भूमिका के लिए लोकसभा सांसद श्री अभिषेक सिंह, नगर निगम के महापौर श्री मधुसूदन यादव और जिले के सभी जनप्रतिनिधियों की प्रशंसा की। समारोह में लोकसभा सांसद श्री अभिषेक सिंह ने बताया कि केन्द्र सरकार ने राजनांदगांव जिले के नक्सल प्रभावित सात विकासखण्डों की 145 बसाहटों को प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत पक्की सड़कों से जोड़ने के लिए 218 करोड़ रूपए की कार्य योजना का अनुमोदन कर दिया है। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष श्री धरमलाल कौशिक ने अपने उद्बोधन में लोक सुराज अभियान को प्रदेश के विकास की जननी बताया। महापौर श्री मधुसूदन यादव ने भी समारोह को सम्बोधित किया। कार्यक्रम में राज्य भण्डरगृह निगम के अध्यक्ष श्री नीलू शर्मा, बीस सूत्रीय कार्यक्रम समिति के उपाध्यक्ष श्री खूबचंद पारख, ऊर्दू अकादमी के अध्यक्ष श्री अकरम कुरैशी, राज्य समाज कल्याण बोर्ड की अध्यक्ष श्रीमती शोभा सोनी सहित विभिन्न संस्थाओं के पदाधिकारी, सदस्य और कलेक्टर श्री भीम सिंह सहित प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

 

error: Content is protected !!