आंगनबाड़ी संघ के नाराज कार्यकर्ताओं ने दी नवरात्र बाद उग्र आंदोलन की चेतावनी

०० आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ की प्रदेशाध्यक्ष और जिलाध्यक्ष को शासन ने किया बर्खास्त

रायपुर|सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं के अनिश्चितकालीन आंदोलन को कमजोर करने के लिए रायपुर नगर निगम आयुक्त रजत बंसल ने छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ की प्रदेशाध्यक्ष पद्मावती साहू और जिलाध्यक्ष भुनेश्वरी तिवारी को बर्खास्त कर दिया है। दुर्ग जिले में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ की जिला अध्यक्ष गीता बाघ व सचिव प्रभा कुठारे को भी बर्खास्त कर दिया गया है।

सरकार की इस कार्रवाई के बाद भी राजधानी के ईदगाह भाठा मैदान में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का आंदोलन 16वें दिन भी जारी रहा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने नवरात्र के बाद अपने आंदोलन का स्वरूप उग्र करने की चेतावनी दी है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता 6 सूत्रीय मांग को लेकर 5 मार्च से प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में धरना दे रही हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग ने आंदोलन को गलत ठहराते हुए कलक्टरों और जिला परियोजना अधिकारियों को कार्रवाई के निर्देश दिए थे। इसके बाद भोजन का अधिकार कानून के उल्लंघन का हवाला देकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नेाटिस जारी किया गया था। नोटिस का जब असर नहीं हुआ, तो निगम आयुक्त ने संघ की दोनों पदाधिकारियों को बर्खास्त करने का अल्टीमेटम दिया था। इसके बाद भी जब कार्यकर्ता हड़ताल से वापस नहीं लौटे तो सेवा से बर्खास्त करने का आदेश जारी कर दिया गया। छत्तीसगढ़ जुझारू आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका कल्याण संघ प्रदेश अध्यक्ष पद्मावती साहू ने कहा,सरकार आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की जड़े काटने की कोशिश कर रही है। इससे सरकार को ही नुकसान होगा। सरकार की इस कार्रवाई से आंगनबाड़ी बहनों की एकता मजबूत हुई है। अभी नवरात्र में अधिकांश बहने उपवास हैं। नवरात्र बाद आंदोलन उग्र किया जाएगा।

 

error: Content is protected !!