ग्राम चुरेगांव के बालक छात्रावास का कलेक्टर ने किया आकस्मिक निरीक्षण

 

आगामी परीक्षाओ के मद्देनजर छात्रो को दिया मार्गदर्शन

भरत भारद्वाज (कोंडागांव) जिले के कलेक्टर नीलकण्ठ टीकाम द्वारा दिनांक 19 मार्च को विकासखण्ड केशकाल के चुरेगांव में स्थित बालक छात्रावास का औचक निरीक्षण किया और व्यवस्थाओं की जानकारी चाही इस दौरान छात्रो से रूबरू होतें हुए उन्होने उनकी पारिवारिक पृष्ठ भूमि और पढ़ाई से संबंधित सवाल पूछे ज्ञातव्य है कि उक्त छात्रावास में कक्षा 6 वीं से 10 वीं तक के 48 छात्र अध्ययनरत् है और इनमें अधिकांशत् दूरस्थ ग्राम जैसे डुण्डाबेड़मा, भूईकीनार, करारमेटा, करमरी, मुडें, जैसे ग्रामों के छात्र है। मौके पर कलेक्टर ने पढ़ाई संबंधी गतिविधियों पाठ्यपुस्तक, गणवेश वितरण, मध्यान्ह भोजन, आदि की जानकारी ली और छात्रो को आगामी परीक्षाओ की शुभकामनायें देतें हुए कहा कि उन्हे भविष्य में जो भी ​​बनना है उसके लिए पहले स्वंय का आकलन करें कि किस क्षेत्र में हमारी रूचि है और कौन सा कार्य हम अच्छे से कर सकतें है। अगर किसी को डाॅक्टर, शिक्षक, इंजीनियर, वकील, बनना है तो उस क्षेत्र की जानकारी सर्वप्रथम शिक्षको से ले और लक्ष्य निर्धारण करें लगातार स्वंय में सुधार करके अपने लक्ष्य पर पंहुचा जा सकता है।

इसके अलावा उन्होने ग्राम चुरेगांव के समीप बारदा नदी पर बनने वाले पुल के निर्धारित स्थान का स्थल परीक्षण किया। ज्ञात हो कि इस पुल के बनाने की मांग स्थानीय ग्रामीणो द्वारा लगातार की जा रही है। पुल के बनने से मुख्यालय कोण्डागांव सहित नारायणपुर की दूरी तो कम होगी ही साथ ही उस नदी से लगे हुए सीमावर्ती गांव कावागांव, सवालवाही, हर्रा, मातला, खुड़मई, हलईनार, करमरी, बुड़तानार, आलानार, के ग्रामीणो के आवागमन संबंधी बड़ी दिक्कत दूर होगी इस दौरान कलेक्टर ने इस पुल के शीघ्र निमार्ण होने की बात कही मौके पर मुख्य कार्यपालन अभियंता देवेन्द्र नेताम, सहायक आयुक्त आदिवासी विकास जी0आर0सोरी, जिला शिक्षा अधिकारी राजेश मिश्रा, अभियन्ता आर0के0गर्ग सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।

error: Content is protected !!