भाजपा सरकार कहती है नक्सलियों को घुस कर मारेंगे, मुख्यमंत्री रमन सिंह के गृह जिले में घुस चुके है नक्सली : विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सूबे के मुखिया डॉ. रमन सिंह पर तीखा हमला करते हुए कहा कि सत्ता हथियाने के लिए 2013 के चुनावों में देश के आज के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तब बड़ी-बड़ी बातें की थी और कहा था कि अगर केंद्र में भाजपा सरकार बनेगी तो आतंकवादी और नक्सली अगर हमारे एक जवान को मारेंगे तो हम उनके 10 जवान मारेंगे एक सर के बदले हम 10 सर लाएंगे वहीं दूसरी ओर नक्सलवाद से ग्रसित छत्तीसगढ़ प्रदेश में लगातार नक्सलियों द्वारा सेना के जवान, पुलिस के जवान और आदिवासियों को बहुत ही निर्ममता से मारा जाता है। जीरम घाटी में कांग्रेस के प्रथम पंक्ति के नेताओं को सुनियोजित तरीके से नक्सली हमले में मरवाया गया। प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर सेना की मांग करते थे। सैन्य ताकत को बढ़ाने की बात कहा करते थे और मीडिया में उनका बयान आता था कि केंद्र द्वारा लगातार छत्तीसगढ़ की उपेक्षा की जा रही है। पर्याप्त मात्रा में सैन्य बल और पैसा मुहैया नहीं कराया जा रहे है, जिसके कारण कि नक्सली लगातार ताकतवर होते जा रहे हैं और लोगों को मार रहे है, उनका आतंक बढ़ रहा है लेकिन आज वही रमन सरकार के मुखिया अपने ही प्रधानमंत्री को पत्र लिखने से ही सकते है जबकि केंद्र में उनकी ही पार्टी की  सरकार है जिसे अपना कार्यकाल पूरा करते 3 साल से अधिक का समय हो चुके हैं और  लगातार नक्सलियों द्वारा सेना के जवानों सीआरपीएफ के जवानों पुलिस के जवानों पर प्राणघातक हमला करके उन्हें मारा जा रहा है। सैकड़ों निर्दोष आदिवासी जनों को निशाना बनाकर उनकी हत्या की जा रही है, हाल ही में सुकमा जिले में हुए नक्सली हमलों में सीआरपीएफ के 9 जवानों की शहादत हुई और दूसरे ही दिन दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों द्वारा पुलिस की 7 गाड़ियों में आग लगा दिया गया और सूबे के मुखिया रमन सिंह का रटा हुवा बयान आया कि बदले की कार्रवाई की जा रही है,बस्तर के हो रहे विकास को देखकर नक्सली तिलमिला रहे हैं वहीं दूसरी ओर उन्हीं के जिले में 200 नक्सलियों का जमावड़ा खुफिया विभाग द्वारा बताया जा रहा है। राजनांदगांव जिला जो कि सूबे के मुखिया रमन सिंह जी का गृह जिला है और उनके पुत्र अभिषेक सिंह वहां से सांसद हैं चैंकाने वाले तथ्य यह भी है कि सुकमा में हुए नक्सली हमले में लगभग उतने ही संख्या में नक्सली थे जितने की संख्या में सूबे के मुखिया के राजनांदगांव जिले में खुफिया विभाग द्वारा  संख्या बताया जा रहा है। रमन सरकार यह कहते नहीं थकते की 14 साल में भारतीय जनता पार्टी के नीतियों के कारण उनके सरकार के कार्यकलापों के कारण लगातार नक्सली गतिविधियां कम हुई है और नक्सलवाद समाप्ति की ओर है, लेकिन आज ही चैंकाने वाले तथ्य सामने आ रहे हैं कि खुद मुख्यमंत्री के गृह जिले में 200 से अधिक नक्सलियों की धमक यह बता रही है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार नक्सलवाद को समूल जड़ से खत्म करने में कितनी संवेदनशील है और उनकी नीतियां कितनी प्रभावशाली है की बड़ी तादाद में नक्सली राजनांदगांव जिले में डेरा जमा रहे है। इससे तो साफ स्पष्ट प्रतीत होता है कि रमन सरकार नक्सलवाद को समाप्त करने की जगह उनका पालन पोषण कर रही है। उनके  एवज में केंद्र सरकार से मोटी राशि वसूली जा और नक्सलियों द्वारा जवानों की शहादत के समय मोटे-मोटे घड़ियाली आंसू बहा कर प्रदेश की जनता को धोखा दिया जा रहा है।

कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि  रमन सरकार 14 साल बाद भी यह नहीं चाहती कि छत्तीसगढ़ नक्सली मुक्त हो नक्सलवाद का दंश प्रदेश से खत्म हो सके, हजारों जाने जिन्हें नक्सली लेते हैं वह बंद हो सके। आज केंद्र में और राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार है। वह सरकार है जो घुसकर मारने का जुमला सुना कर सत्ता तो हथिया ली परंतु कथनी और करनी में यही फर्क दिख रहा है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार के मुखिया के गृह जिला राजनांदगांव में ही 200 से अधिक नक्सली घुस गये हैं और सरकार जनता से यह ढींग हाक रही है कि वह नक्सलियों को समूल जड़ से खत्म कर देंगे। रमन सरकार द्वारा जनता को धोखा दिया जा रहा है, देश के जवानों के मनोबल के साथ भी खिलवाड़ किया जा रहा है, प्रदेश सरकार झूठ कहती है कि वह नक्सली खात्मे के लिये संवेदनशील है,सुकमा जिले में शहीद हुए जवान की बेटी ने बताया था कि उनके शहीद पिता की  कहा था कि आप शिक्षिका बन जाना इंजीनियर बन जाना परंतु पुलिस में सेना में नहीं जाना यह बयान बेहद दुर्भाग्यजनक और झकझोर देने वाला है मुख्यमंत्री रमन सिंह को देश और प्रदेश की जनता के सामने यह बताना चाहिए कि राजनांदगांव जिले में 200 से अधिक नक्सलियों का जमावड़ा उनकी सरकार की सफलता है या कहीं उनके ही संरक्षण में नक्सलियों अपने नेटवर्क का विस्तार कर रहे है।

 

error: Content is protected !!