नक्सल पीड़ित धौड़ाई इलाके में आया अभूतपूर्व बदलाव : डॉ. रमन सिंह

०० मुख्यमंत्री अचानक पहुंचे समाधान शिविर में

०० महिमा-गवाड़ी के उप-स्वास्थ्य केन्द्र भवन सहित विभिन्न गांवों को निर्माण कार्यों के लिए डेढ़ करोड़ से ज्यादा राशि मंजूर करने की घोषणा

रायपुर| लोक सुराज अभियान के तहत मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज नक्सल हिंसा पीड़ित नारायणपुर जिले के ग्राम धौड़ाई के समाधान शिविर में अचानक पहुंचकर ग्रामीणों, पंच-सरपंचों और सरकारी अधिकारियों तथा कर्मचारियों को अचरज में डाल दिया। आदिम जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप ने वहां मुख्यमंत्री का आत्मीय स्वागत किया। डॉ. रमन सिंह ने शिविर में लोगों को संबोधित करते हुए इस बात पर खुशी जताई कि विगत लगभग तेरह वर्ष में धौड़ाई और आसपास के इलाकों की तस्वीर तेजी से बदल गई है। यह बदलाव अभूतपूर्व है। डॉ. सिंह ने शिविर में धौड़ाई सहित क्षेत्र के विभिन्न गांवों के लिए एक करोड़ 53 लाख रूपए से ज्यादा के निर्माण कार्यों की तत्काल मंजूरी देने का ऐलान किया। इस अवसर पर उन्होंने श्रम विभाग की भगिनी प्रसूता योजना, किसानों के लिए संचालित सौर सुजला योजना तथा शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को अनुदान राशि और सामग्री आदि का भी वितरण किया।
मुख्यमंत्री ने लोगों से कहा-वर्ष 2005 में जब मैं यहां आया था, तब धौड़ाई के हालात कुछ अलग थे, लेकिन अब राज्य और केन्द्र की योजनाओं के साथ-साथ ग्रामीणों के आत्मविश्वास, सुरक्षा बलों के सहयोग और जनप्रतिनिधियों अधिकारियों तथा कर्मचारियों की सजगता से यहां विकास के बहुत से कार्य हुए हैं और हो रहे हैं। इसके फलस्वरूप जन-जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आया है। यह बदलाव अभूतपूर्व है। महिला स्व-सहायता समूहों के जरिए इस जिले में महिलाओं को स्वरोजगार से जोड़ने की दिशा में सराहनीय कार्य हो रहे हैं। सौर सुजला योजना के तहत सौर ऊर्जा आधारित सिंचाई पम्प मिलने से क्षेत्र के छोटे किसान उत्साह के साथ साग-सब्जियों की खेती करने लगे हैं। मुख्यमंत्री ने समाधान शिविर में अधिकारियों को नारायणपुर से अबूझमाड़ के प्रवेश द्वार विकासखंड मुख्यालय ओरछा तक सड़क निर्माण हर हाल में इस वर्ष जून माह तक पूर्ण करने के निर्देश दिए। डॉ. सिंह ने जनता से कहा-प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना के तहत पूरे छत्तीसगढ़ में लगभग छह लाख 80 हजार घरों को जून 2018 तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य है। नारायणपुर जिले में भी ऐसे सभी घरों को जून तक छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी (सीएसपीडीसीएल) और अक्षय ऊर्जा विकास अभिकरण (क्रेडा) के माध्यम से बिजली के कनेक्शन दिए जाएंगे। विद्युतविहीन मजरो-टोलों को भी जून तक रौशन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों के आग्रह पर क्षेत्र के ग्राम महिमा-गवाड़ी में उप-स्वास्थ्य केन्द्र भवन निर्माण के लिए 35 लाख रूपए, धौड़ाई में गोंड़वाना समाज भवन के लिए 25 लाख रूपए, धौड़ाई में ही मिनी स्टेडियम निर्माण के लिए 25 लाख रूपए, बिहान महिला स्व-सहायता समूह को भवन निर्माण के लिए दस लाख रूपए और दंडवन-छोटे फरसगांव पहुंच मार्ग निर्माण के लिए 20 लाख रूपए तत्काल मंजूर करने की घोषणा की। उन्होंने तोयनार-बयानार सड़क निर्माण के लिए भी 20 लाख रूपए देने का ऐलान किया। डॉ. सिंह ने धौड़ाई के मुरिया पारा में पुलिया निर्माण के लिए तीन लाख 55 हजार रूपए, ग्राम पंचायत सुलेंगा के कोकपाड़ मार्ग में पुलिया निर्माण के लिए 8 लाख 66 हजार रूपए, धौड़ाई नलजल योजना की मरम्मत के लिए 6 लाख रूपए और कोंगेर-बहेरहोड़ मार्ग में पुलिया निर्माण के लिए 5 लाख 34 हजार रूपए स्वीकृत करने की घोषणा की। समाधान शिविर में धौड़ाई सहित पल्ली, कोंगेर, सुलेंगा, टेमरू गांव, कन्हारगांव, तोयनार और महिमागवाड़ी ग्राम पंचायतों के विभिन्न आश्रित गांवों से बड़ी संख्या में किसान और अन्य ग्रामीणजन शामिल हुए। मुख्य सचिव श्री अजय सिंह भी मुख्यमंत्री के साथ समाधान शिविर में पहुंचे।

 

error: Content is protected !!