रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ऐतिहासिक भोरमदेव महोत्सव का शुभारंभ

भोरमदेव महोत्सव 2018

०० पर्यटन मंत्री दयालदास बघेल द्वारा महोत्सव के लिए 10 लाख रूपये देने की घोषणा

रायपुर| राज्य के ऐतिहासिक, पुरातात्विक और सांस्कृतिक महत्व के भोरमदेव महोत्सव का शुभारंभ पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री दयालदास बघेल के मुख्य आतिथ्य में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर श्री बघेल ने कहा कि भगवान भोलेनाथ के आशीर्वाद से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के कुशल नेतृत्व में छत्तीसगढ़ देश के अग्रणी राज्यों में शामिल है। उन्होंने कहा कि राज्य शासन ने पिछले 14 वर्षो में भोरमदेव महोत्सव में भव्यता लाने का प्रयास किया गया है।

पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री दयालदास बघेल ने कहा कि पर्यटन विभाग द्वारा मैनपाट उत्सव, तातापानी उत्सव एवं बस्तर दशहरा उत्सव का आयोजन कर कलाकारों का उत्साहवर्धन किया जाता है और लाखों की तदाद में लोगों द्वारा भाग लिया जाता है। श्री बघेल ने भोरमदेव महोत्सव के लिए 10 लाख रूपये देने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि भोरमदेव बाबा के आशीर्वाद से छत्तीसगढ़ निरंतर विकास की ओर बढ़ रहा है। राज्य शासन द्वारा किसानों के हित में बेहतर काम किया जा रहा है। दीपावली के पूर्व किसानों को बोनस देने के साथ ही सूखा राहत एवं फसल बीमा देकर किसानों का मान बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा समाज के सभी वर्गो के लिए अनेक योजनाएं चलायी जा रही है। लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए समाधान शिविर लगाकर उसका निराकरण किया जा रहा है। श्री बघेल ने भोरमदेव महोत्सव के भव्य आयोजन के लिए आयोजन समिति और जिला प्रशासन को बधाई एवं शुभकामनाएं दी। महोत्सव के शुभारंभ समारोह में वरिष्ठ समाजसेवी एवं भोरमदेव तीर्थकारिणी प्रबंध समिति के अध्यक्ष श्री आनंद सिंह ने कहा कि आंतरिक ऊर्जा को सबल बनाने के लिए इस महोत्सव का आयोजन किया जाता है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन में जिला कबीरधाम एवं अन्य जिलों के लोग पूरे उत्साह से शामिल होते हैं। वहीं पर क्षेत्रीय और स्थानीय कलाकारों को अपनी कला का प्रदर्शन करने का मौका मिलता है। समारोह को संबोधित करते हुए कवर्धा के विधायक श्री अशोक साहू ने कहा कि हमारे लिए गौरव की बात है कि भोरमदेव आस्था के केन्द्र में जो भी मन्नत लेकर आते है वे सफल होते है। समारोह का शुभारंभ अवसर पर प्रदेश के ख्याति प्राप्त कलाकारों द्वारा नृत्य, संगीत की शानदार, मनमोहक प्रस्तुति दी गई। कलाकारों ने रंग-बिरंगे परिधानों में सज-धज कर छत्तीसगढ़ की सुप्रसिद्ध शैला, कर्मा, सुआ, ददरिया एवं तीज त्यौहारों सहित अनेक लोक गीत, संगीत एवं नृत्य प्रस्तुत किये। इसके अलावा अश्लेषा एवं डांस ग्रुप मुंबई द्वारा शिव तांडव की प्रस्तुति सहित इंदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ की प्रस्तुति, कत्थक रॉक्स दुर्ग, प्रियाणी वाणी, मदन शुक्ला (गायक), दुर्ग जिले के ‘लोकरंग’ अर्जुन्दा के लोक कलाकारों ने छत्तीसगढ़ी कार्यक्रमों की शानदार प्रस्तुति दी, जिसे दर्शकों ने सराहा। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष श्री सियाराम साहू, भोरमदेव सहकारी शक्कर कारखाना अध्यक्ष श्री भेलीराम चन्द्रवंशी, कलेक्टर श्री नीरज कुमार बनसोड़ और बड़ी संख्या में नागरिक उपस्थित थे।

 

 

error: Content is protected !!