वीरू को राजनीति से सन्यास ले लेना चाहिये: विकास तिवारी

०० राज्यसभा का फार्म लेने के बावजूद जय ने वीरू को प्रत्याशी नही बनवा सके  

रायपुर। छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने कल जारी हुए राज्यसभा उम्मीदवारों की सूची पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक का नाम नहीं आने पर सांत्वना व्यक्त करते और ढांढस बंधाते हुवे कहा कि अब प्रदेश भाजपा में जय की स्थिति इतनी मजबूत नहीं है कि राज्यसभा का नामांकन फॉर्म लेने के बाद भी वीरू को प्रत्याशी नहीं बनाया जा सकता और राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडे ने बाजी मार लिया।

प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि जहां एक और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक को पिछला विधानसभा चुनाव में अपनी बिल्हा सीट से हार का सामना करना पड़ा था, जनता ने उन्हें नकार दिया था और आगामी विधानसभा के चुनावों में अपनी पार्टी की होने वाली भयावह पराजय से भयभीत होकर सुरक्षित रूप से बिना चुनाव लड़े, बिना मेहनत करे राज्यसभा जाने का जुगाड़ करना प्रारंभ कर दिया था और पूरे हद तक सफलता भी प्राप्त कर ली थी। कौशिक को उनकी पार्टी द्वारा  नियमानुसार राज्यसभा नामांकन फार्म लेने के लिए भी कहां गया था और उनके द्वारा नामांकन फार्म ले भी लिया गया था बावजूद इन सब के बाद दिल्ली से भाजपा आलाकमान ने सुश्री सरोज पांडे का नाम तय कर दिया। प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि सुश्री पांडे का नाम तय होने से भाजपा के जय और वीरू दोनो गहरे सदमे में है, ऐसी घटना देश के इतिहास मे पहली बार हुई है, कि किसी राजनैतिक पार्टी के प्रदेश मुखिया राज्यसभा के नामांकन फार्म अपने लिये खरीदता है, और दिल्ली से आलाकमान किसी और को प्रत्याशी बना के भेज देते है, ऐसी स्थिति में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के पास राजनीति से सन्यास लेने के अलावा कोई चारा बचता ही नही है, जहाँ एक ओर उनके क्षेत्र की जनता ने उन्हें चुनाव में पहले ही नकार दिया वही अब उनकी ही पार्टी के आलाकमान ने उन्हें राज्यसभा उम्मीदवार नही बना कर नकार दिया।

 

error: Content is protected !!