नेता प्रतिपक्ष ने किया पत्रकारों से संवाद, पूछा घोषणा पत्र कैसा हो ???

०० टीएस सिंहदेव ने कहा पार्टी का घोषणा पत्र जनभावनाओं के अनुरूप हो

बिलासपुर। कांग्रेस के घोषणा पत्र ड्राफिंटग समिति के अध्यक्ष आज दिन भर शहर के विभिन्न संगठनों से मिले। इसी तारतम्य में उन्होंने प्रेस कल्ब में शहर के पत्रकारो से चर्चा की और कांग्रेस के घोषणा पत्र में क्या होना चाहिए इस पर संवाद किया। अपने वकतव्य में टीएस सिंहदेव ने बताया की पार्टी ने उन्हें बड़ी जिम्मेदारी दी है और उनकी कोशिश है की पार्टी का घोषणा पत्र जनभावनाओं के अनुरूप हो उन्होंने बताया की कांग्रेस पार्टी ने विभिन्न स्तर पर संवाद किया है और ऐसा घोषणा पत्र बना रही है। जिसे 100 प्रतिशत लागू किया जा सके। पत्रकारो ने अपने विषय की समस्याएं नेता प्रतिपक्ष को बताई। पत्रकारों ने बताया की उनकी सबसे बड़ी मांग अधिमान्यता को लेकर है। सरकार की यह नीति पारदर्शी होना चाहिए और ऐसी होना चाहिए कि पत्रकारिता क्षेत्र के प्रत्येक आयाम के सदस्य को बराबरी से मौका मिले। पत्रकारो ने मांग रखी की जब कभी भी कांग्रेस की सरकार आए तो पहला काम जनसुरक्षा कानून की समीक्षा हो। क्योंकि राज्य में इस कानून का सर्वाधिक उपयोग पत्रकारो की आवाज दबाने के लिए किया गया। इस कानून के तहत जितने लोग जेल गए उनमें से 70 प्रतिशत पत्रकार है। पत्रकारों ने यह भी मांग रखी की पत्रकारों के हित में काम करने वाली प्रत्येक संस्था को पंजीकृत किया जाए और यह पंजीकरण एक विशेष दर्जे के साथ हो। जिससे संगठनों को स्वयं का पंजीकरण समिति या एंजीओ के रूप में न कराना पड़े। संवाद में उपस्थित महिला पत्रकारों ने छोटे शहरों में महिला पत्रकारों के हित संरक्षण की बात कही। नेता प्रतिपक्ष के साथ आशीष सिंह, शैलेष पांडे, विवेक बाजपेयी, प्रमोद नायक, शिवा मिश्रा, विजय पांडे सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी उपस्थिति थे।

error: Content is protected !!