डीकेएस, आंबेडकर अस्पताल व रायपुर जिला अस्पताल पर प्रदेश सरकार, जारी करे श्वेत पत्र : संजीव अग्रवाल 

रायपुर| प्रदेश की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर जनता काँग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रवक्ता और मीडिया समन्वयक संजीव अग्रवाल ने आरटीआई से प्राप्त जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री और संबंधित विभाग पर हमला करते हुए एक विज्ञप्ति जारी की है और कहा है कि जहां एक ओर प्रदेश के सभी शासकीय अस्पतालों में अव्यवस्था पाई गई है, चिकित्सकों और तृतीय व चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के पद खाली पड़े हैं वहीं दूसरी ओर ये कहते हैं कि डीकेएस हॉस्पिटल में 600 स्टाफ़ की भर्ती की जाएगी। 

संजीव अग्रवाल ने कहा कि एक सूचना के अधिकार से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल डॉ भीम राव अंबेडकर अस्पताल में विभिन्न विभागों में डॉक्टरों के लिए कुल 480 पोस्ट स्वीकृत हैं पर वास्तविक स्थिति में 203 डॉक्टर ही पदस्थ हैं साथ ही 122 डॉक्टरों की पोस्ट कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर हैं, साथ ही तृतीय श्रेणी के लिए 745 पोस्ट स्वीकृत हैं पर वास्तविक स्थिति 504 हैं और चतुर्थ श्रेणी में 383 पोस्ट स्वीकृत हैं पर वास्तविक स्थिति 278 हैं जिसके कारण जनता हलाकान है। संजीव ने कहा कि यही स्थिति प्रदेश के लगभग सभी अस्पतालों की है, अंबिकापुर से जगदलपुर और राजनांदगांव से रायपुर हर जिले में शासकीय अस्पतालों में डॉक्टरों और कर्मचारियों के पद रिक्त हैं और सरकार उन रिक्त पदों की पूर्ति करने के बजाय नए नए अस्पताल खोलने में लगी है। क्या यही है “सबका साथ सबका विकास”?  संजीव अग्रवाल ने छत्तीसगढ़ शासन से पूछा है कि डीकेएस अस्पताल में भर्ती, स्थानीय लोगों के बजाय आउटसोर्सिंग के जरिए क्यों की जा रही है? साथ ही संजीव अग्रवाल ने प्रदेश की सरकार से डीकेएस अस्पताल के धीमे निर्माण कार्य व उसमें डॉक्टरों की भर्ती और प्रदेश के सभी शासकीय अस्पतालों की जर्जर हालत और रिक्त पदों की संख्या में बढ़ोतरी के कारण जनता को होने वाली असुविधा पर श्वेत पत्र जारी करने की मांग की है। 

 

error: Content is protected !!