राष्ट्रीय राज मार्ग की हालत खराब नए सड़क पर पड़ी दरारे

 

के. नागे (बालोद) जिला को सौगात के रुप में मिली NH930 इसका निर्माण भी शुर्खिया में बनी है आमतौर पर लोग ठेकेदार को जिम्मेदार बता रहे है जब निर्माण कार्य शुरू हुआ था तो लोगो में भारी खुशी देखी जा सकती थी और अब जब निर्माण अंतीम चरणो पर है परंतु जंहा पर से निर्माण शुरु हुई थी आज उन जगहो पर नेशनल हाईवे की सड़क घटीया निर्माण की पोल खोलती नजर आ रही है बालोद जिला में शासन प्रशासन नाम की कोई खास दखल नहीं होने के कारण से निर्माण कम्पनी के हौसले बुलंद है चंद रुपयों के लालच में आकर विभागीय अधिकारियों द्वारा निर्माण कम्पनी की देखरेख में खुलकर कोताही बरती जा रही है जिसके चलते नेशनल हाइवे में जगह जगह गड्ढे हो गए हैं अगर विभागीय अधिकारियों द्वारा समझदारी दिखाई दी गई होती तो सड़के आज साल भर बाद नया बनाने की नौबत ना आती वही उक्त सड़क पर निर्माण कार्य के दौरान कई लोग दुर्घटना का शिकार हो गए हैं वंही जिले के अनेक ग्राम है ऎसे है जंहा की सड़के इतनी खराब है कि लोग अपने पहचान और रिस्तेदारो को अपने घरो में बुलाने से कतराते है लोग अकसर कहते है कि कास हमारे भी गांव का सड़क अच्छा बना होता वंही सरकार ने लोगो के समय और पैसा बचाने के लिये चौड़ी और बढि़या सड़क बनाने का निर्णय लिया जो कि सही भी है किन्तु भ्रष्टाचार के खेल के कारण अब नेशनल हाईवे 930 अपनी दुर्दशा बता रही है रायपुर जगलपुर नेशनल हाईवे से निकल कर पुरुर से गुरूर होकर बालोद राजनांदगांव जिला तक जाने वाली सड़क कुलिया कनेरी के पास गढ्ढे गढ्ढे होकर पुरी तरह से टुट रही है हजारो लोग इसी सड़क से गुजरते हुये अपने गणत्व पुरा करते है वंही सड़क निर्माण कम्पनी एवं अधिकारीयो की लापराहवाही के कारण सड़क अभी से टुटने लगी है जिससे लोग अब सड़क की गुणव्त्ता पर सवाल उठा रहे है और यह जायज भी है क्योकी लोगो को ही इन सड़को का उपयोग आवागमन के लिये करना है सड़क निर्माण कम्पनी तो यंहा से सड़क बना कर पैसे लिये और चलते बने परेशानी तो आम लोगो को उठानी पड़ती है। चाहे शासन की राशि का उपयोग सही हो या फिर गलत हो खामियाजा आम जनता को ही भुगतना पड़ता है।

error: Content is protected !!