सहायता, देखरेख और संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों तक शीघ्र मदद पहुँचाना सुनिश्चित करें : श्रीमती प्रभा दुबे

०० बाल आपराध से जुड़े लंबित प्रकरणों का शीघ्र निराकरण करने के भी दिए निर्देश

रायपुर| छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती प्रभा दुबे ने आज आज अपने जांजगीर चाम्पा जिले के प्रवास के दौरान आज कलेक्टर सभा गृह में समीक्षा बैठक ली, इस दौरान उन्होंने जिले के प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे किसी भी प्रकार की सहायता ,देखरेख और संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों तक जल्द से जल्द मदद पहुँचाना सुनिश्चित करें|श्रीमती दुबे ने जिला पुलिस के पास बाल आपराध से जुड़े लंबित प्रकरणों का शीघ्र निराकरण करने के निर्देश भी दिए|

समीक्षा बैठक में उन्होंने जांजगीर –चाम्पा जिले में बाल संरक्षण और बाल हित में हो रहे कार्यों की जानकारी ली और संबधित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे आपसी सामंजस्य से इस प्रकार कार्य करें कि किसी भी बच्चे का अहित न होने पाए. इसके लिए छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग हर संभव सहयोग के लिए तत्पर है. उन्होंने निर्देश दिए बच्चों के संरक्षण की दिशा में कार्य कर रही स्वयं सेवी संस्थाओं को निर्देश दिए कि अपनी कार्यप्रणाली में सुधार लायें इसके लिए किसी भी प्रकार की अव्यवस्था बर्दाश्त नहीं की जाएगी| श्रीमती प्रभा दुबे ने बैठक के दौरान छत्तीसगढ़ राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग बच्चों के लिए शुरू किये गए ‘मेरी आवाज ‘ मोबाइल एप्लीकेशन की जानकारी दी और बताया कि किस तरह बच्चे घर बैठे ही अपनी बात सीधे आयोग तक पहुंचा सकते हैं .उन्होंने राजधानी रायपुर और बिलासपुर में शुरू की जा रही गोपनीय सुझाव/ शिकायत पेटी के बारे में भी बैठक में बताया और कहा कि शीघ्र ही जांजगीर –चाम्पा जिले में भी इस तरह की पेटियां लगायी जाएँगी .आयोग के सदस्य श्री अंकित ओझा ,जिला शिक्षा अधिकारी श्री आर एन हीराधर ,मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी श्री व्ही.जे.प्रकाश ,जिला बाल संरक्षण अधिकारी श्री गजेन्द्र जायसवाल,सहायक आयुक्त आदिमजाति कल्याण श्री एल एल कुंवर सहित पुलिस ,समाज कल्याण ,श्रम विभाग के अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे .

 

error: Content is protected !!