अमेरिका में फंसी भारत की बेटी, मदद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज से गुहार

०० सामाजिक कार्यकर्ता प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने ट्विटर के माध्यम से, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से मांगी मदद

रायपुर| छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के सामाजिक कार्यकर्ता प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने “छत्तीसगढ़ के बिलासपुर की एक लड़की, जो कि विवाह के बाद अपने पति के साथ अमेरिका चली गई थी” उसको इंसाफ दिलाने के लिए आज ट्विटर के जरिए भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी, विदेश मंत्री श्रीमती सुशमा स्वराज, कांग्रेस के अध्यक्ष श्री राहुल गांधी, अमेरिका के राष्ट्रपति श्री डोनल्ड ट्रंप के साथ ही छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ श्री रमन सिंह और छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री श्री अजीत जोगी जी सहित संपूर्ण मीडिया जगत और भारत की जनता से अपील की है।

पूरा मामला यह है कि बिलासपुर के निवासी 59 वर्षीय वी एन राव की 28 वर्षीय पुत्री वी मेहर निधि का विवाह 2012 में विशाखापट्टनम के निवासी 36 वर्षीय डी रवि शंकर के साथ हुआ था। विवाह के 1 माह के दौरान ही दोनों के बीच तनाव की शुरुआत हो चुकी थी। धीरे धीरे, रवि शंकर अपनी पत्नी मेहर निधि का शारीरिक और मानसिक रूप से शोषण करने लगा बावजूद इसके कि वह गर्भवती हो चुकी थी। 2013 में उन्हें एक बालक के रूप में संतान प्राप्ति हुई जिसका लिंग जांच पहले ही निधि के विरोध के बाद भी कराया गया था। लड़की के पिता से लड़के व उसके माता-पिता द्वारा समय समय पर पैसों की मांग भी की जाती रही थी। 2 साल तक रविशंकर के साथ तालमेल बनाने की नाकाम कोशिश के बाद निधि ने आगे की पढ़ाई कर आत्मनिर्भर बनाने का फैसला लिया और वापस आकर भारत में जीआरई की कोचिंग कर पास होने के बाद अमेरिका में ही एमएस करने के लिए कॉलेज में एडमिशन लिया जिसके लिए उसे स्टूडेंट वीजा मिल गया। अमेरिका जाने के बाद उसे उसके पति के अनैतिक सम्बन्धों का पता चला जिसका विरोध करने पर रविशंकर ने अपनी पत्नी मेहर निधि को डराने धमकाने के लिए अपने ही पुत्र को बाथ टब में डुबो कर उसे मारने का प्रयास किया जिसके बाद निधि वहां से जान बचाकर भाग गई। फिर निधि ने अपने बच्चे को भारत में अपने माता पिता के पास रखा और स्वयं जैसे तैसे पढ़ाई पूरी कर ली। तत्पश्चात उसे अमेरिका में ही स्वास्थ्य विभाग में नौकरी के लिए प्रस्ताव आया पर यह खबर उसके पति रविशंकर को हजम नहीं हुई तो उसने अपनी पत्नी निधि के खिलाफ अपने ही बच्चे को लेकर भागने और डाइवोर्स का झूठा आरोप लगाकर कानूनी प्रक्रिया में फंसा दिया जिसके बाद कोर्ट द्वारा उसका और उसके बच्चे का पासपोर्ट जब्त कर लिया गया। इस पर कोर्ट ने बच्चे को एक एक हफ्ता माँ और पिता के पास रखने का आदेश दिया। बच्चे और उसकी मां की शारीरिक और मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। निधि ने वहाँ इंडियन एम्बेसी और स्थानीय पुलिस से मदद की गुहार लगाई है पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। निधि के माता-पिता और भाई ने प्रधानमंत्री कार्यालय और विदेश मंत्रालय में भी गुहार लगाई है साथ ही ट्विटर पर भी श्रीमती सुशमा स्वराज जी ने आग्रह किया है परन्तु अब तक उनकी कोई सुनवाई नहीं हुई है।

अपने मासूम बच्चे के साथ फंसी है बिलासपुर की बेटी :- प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने मीडिया के माध्यम से, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री श्रीमती सुशमा स्वराज, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह से इस मामले में यथासंभव मदद करने की अपील की है साथ ही भारत की जनता और अमेरिका में रहने वाले भारतीयों से भी अमेरिका में अपने मासूम बच्चे के साथ फंसी हुई भारत की अधिक से अधिक सहयोग करने की अपील की है क्योंकि उसकी मदद करने वाला वहां कोई नहीं है।

 

error: Content is protected !!