विधानसभा: हॉस्टल्स में छात्रों की मौत पर मंत्री का रटा-रटाया जवाब   

०० कांग्रेसी विधायको ने ध्यानाकर्षण के जरिए उठाए सवाल

रायपुर। विधानसभा में मंगलवार को कांग्रेसी विधायकों ने आदिवासी हॉस्टल्स में छात्रों की खुदकुशी और मौतों का मामला उठाया। ध्यानाकर्षण के जरिए उठाए गए इन सवालों का आदिम जाति कल्याण मंत्री केदार कश्यप ने रटा-रटाया उत्तर दिया। अलबत्ता उन्होंने आसंदी के सामने अधिकारियों का बचाव करते हुए कहा कि खुदकुशी की बातें जरूर सामने आई हैं। पर ये अधिकारियों की लापरवाही के चलते नहीं हुई हैं। पुलिस मामले की विवेचना कर रही है।

एर्राकोट आदिवासी होस्टल में छात्र की खुदकुशी के मामले पर कांग्रेस विधायक दीपक बैज ने मंत्री केदार कश्यप को जमकर घेरा। उन्होंने कहा कि विभाग उदासीन है। हर साल बस्तर क्षेत्र में 3-4 ऐसे खुदकुशी के मामले सामने आते हैं। इस पर मंत्री ने कहा कि छात्र मानसिक अवसाद में ऐसे कदम उठाते हैं। होस्टल के प्रति छात्रों की कोई नाराजगी नहीं रहती है। अपने घरवालों से नाराजगी रहती है, जो भी दोषी होगा। उस पर कार्रवाई होगी।कांग्रेस विधायक अमरजीत भगत ने कहा कि लगातार आश्रम-छात्रावास में इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। इन घटनाओं में कौन दोषी है। इस पर मंत्री केदार कश्यप ने कहा, इनकी हमेशा राजनीति रही है किसी वर्ग को लेकर। किसी वर्ग का कोई भी दोषी हो, उस पर कार्रवाई होगी।

 

error: Content is protected !!