विधानसभा: मुख्यमंत्री बाल भविष्य योजना पर नेता प्रतिपक्ष ने उठाया अनियमितता का मुद्दा  

 ०० नेता प्रतिपक्ष और अन्य सदस्यों की ओर से ध्यानाकर्षण सूचना पर हुई चर्चा

रायपुर। छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र में शुक्रवार को नेता प्रतिपक्ष और अन्य सदस्यों की ओर से ध्यानाकर्षण सूचना पर चर्चा हुई। नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव और विधायक मोहन मरकाम ने मुख्यमंत्री बाल भविष्य योजना के संबंध में ध्यानाकर्षण सूचना दी। इस पर मंत्री केदार कश्यप ने सदन में पक्ष प्रस्तुत किया।
नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव और विधायक मोहन मरकाम ने ध्यानाकर्षण सूचना में कहा कि मुख्यमंत्री बाल भविष्य योजना अंतर्गत प्रदेश के सभी संभागों में प्रयास आवासीय विद्यालय का संचालन किया जा रहा है। उक्त प्रयास विद्यालय में नक्सल प्रभावित जिलों के अध्ययनरत 15 विद्यार्थियों के भोजन शिष्यवृत्ति की राशि से प्रतिमाह लाखों रुपयों की अनियमितता की जा रही है।शिष्यवृत्ति की राशि प्रति विद्यार्थी 15 सौ रुपए प्रतिमाह है और अधीक्षक अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए हर माह करोड़ों रुपए की राशि से भोजन सामग्री में सीधे बाजार से सांठगांठ करके करते हैं। भोजन सामग्री में गुणवत्ता का ख्याल रखा जा रहा है न ही भोजन सामग्री के किराए के लिए भंडार क्रय नियमों का पालन और ना ही इस प्रक्रिया में कोई पारदर्शिता बढ़ती जा रही है। यही नहीं विद्यालय के पुस्तकालय के लिए क्रय किए जाने वाले पुस्तकों के लिए कोई भी निविदा प्रक्रिया नहीं अपनाई जाती। वहीं कोचिंग संस्थाओं की ओर से अध्ययन के लिए फैकल्टी के लिए अनुबंध में उल्लेखित से कम क्वालिफिकेशन वाले शिक्षकों से अध्यापन का कार्य कराया जा रहा है। यही कारण है कि विद्यार्थी आईआईटी एनआईटी मेडिकल जैसे संस्थानों के लिए परीक्षा देते हैं पर चयन नहीं होता और विद्यार्थियों के क्वालिफाइड को ही चयन मानकर संबंधित संस्थान को राशि का पूर्ण भुगतान अनुबंध की शर्तों को ताक पर रखकर वित्तीय अनियमितता सालों से की जा रही है। इस प्रकार शासन की मुख्यमंत्री बाल भविष्य योजना की राशि में अनियमितता करने से नक्सल प्रभावित बच्चों के भविष्य पर विपरीत असर पड़ रहा है एवं प्रयास आवासीय विद्यालय के असंतोषजनक परिणाम से बच्चों के बालकों में अत्यंत रोज और आक्रोश व्याप्त है।
शिक्षामंत्री ने सदन में दिया ये जवाब :- ध्यानाकर्षण की सूचना पर आदिम जाति तथा अनुसूचित जाति पिछड़ा अल्पसंख्यक कल्याण एवं स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने कहा कि यह सही है कि मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना अंतर्गत प्रदेश के सभी संभागों में प्रयास आवासीय विद्यालय का संचालन किया जा रहा है। वर्तमान में प्रयास आवासीय विद्यालय बालक एवं कन्या रायपुर प्रयास आवासीय विद्यालय बिलासपुर दुर्ग जगदलपुर और सरगुजा में संचालित है। इसके अतिरिक्त प्रयास आवासीय विद्यालय कांकेर में कक्षा नौवीं और दसवीं के लिए संचालित है। यह सही है कि वर्ष 2017 18 से प्रति विद्यार्थी प्रतिमाह 15 सौ रुपए की स्वीकृति दी जा रही है इसके पूर्व यह दर 1000 रुपए प्रति माह थी। परंतु यह सही नहीं है कि भोजन के लिए दी जा रही शिष्यवृत्ति की राशि से प्रतिमाह करोड़ों का भ्रष्टाचार किया जा रहा है। अपितु शिष्यवृत्ति की राशि से प्रतिमाह भोजन व्यवस्था के लिए सामग्री का क्रय समिति के माध्यम से ही किया जाता है। इसके लिए छात्रों में से ही नायक – सचिव होते हैं। यह सही नहीं है कि भोजन में गुणवत्ता का ख्याल नहीं रखा जाता है जबकि सच यह है कि मीनू के अनुसार गुणवत्ता युक्त भोजन प्रदान किया जाता है। छत्तीसगढ़ खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत कल्याणकारी संस्था योजना अंतर्गत 15 किलो प्रति छात्र प्रतिमाह चावल एवं गेहूं का उठाव शासकीय उचित मूल्य की दुकान से किया जाता है। तथा गैस सिलेंडर का उठाव भी भारत सरकार के उपक्रम के अधिकृत गैस एजेंसियों से ही किया जा रहा है। यह सही नहीं है कि इन विद्यालयों के पुस्तकालय के लिए किराए की जाने वाली पुस्तकों के लिए निविदा प्रक्रिया नहीं अपनाई गई अभी तो यह सही है कि भंडारे नियमों का पालन करते हुए पुस्तके क्रय की गई है। यह सही नहीं है कि फैकल्टी के लिए अनुबंध में उल्लेखित शर्तों से कम क्वालीफिकेशन वाले शिक्षकों से अध्यापन का कार्य कराया जाता है। अपितु अनुबंध की शर्तों के अनुरूप ही शिक्षकों से अध्यापन का कार्य कराया जा रहा है यह भी सही नहीं है कि विद्यार्थियों के क्वालीफाई को चेयरमैन कर संस्थान को राशि का पूर्ण भुगतान शर्तों को ताक पर रखकर फर्जी रूप से वित्तीय अनियमितता का खेल सालों से चला आ रहा है।

 

 

error: Content is protected !!