घटिया मटेरियल सड़क बदहाल यही है बालोद जिला का पहचान

 

के. नागे (बालोद) जिला को सौगात के रुप में मिली NH930 इसका निर्माण भी अकसर शुर्खिया बनी रही और अब निर्माण अंतीम चरणो पर है परंतु जंहा पर से निर्माण शुरु हुई है आज उन जगहो पर आज नेशनल हाईवे की सड़क घटीया निर्माण की पोल खोलती है जनता के मेहनत और पसीने की किमत यदी कोई निमार्ण कम्पनी समझती तो सड़के अकसर साल भर बाद नया बनाने की नौबत ना आती वंही जिले के अनेक ग्राम है जंहा की सड़के इतनी खराब है कि लोग अपने रिस्तेदारो को अपने घरो में बुलाने से कतराते है लोग अकसर कहते है कि कास हमारे भी गांव का सड़क अच्छा बना होता वंही सरकार ने लोगो के समय और पैसा बचाने के लिये चौड़ी और बढि़या सड़क बनाने का निर्णय लिया जो कि सही भी है किन्तु भ्रष्टाचार के खेल के कारण अब नेशनल हाईवे 930 अपनी दुर्दशा बता रही है रायपुर जगलपुर नेशनल हाईवे से निकल कर पुरुर से राजनांदगांव जिला तक जाने वाली सड़क कुलिया कनेरी के पास गढ्ढे गढ्ढे होकर पुरी तरह से टुट रही है हजारो लोग इसी सड़क से गुजरते हुये अपने गणत्व पुरा करते है वंही सड़क निर्माण कम्पनी एवं अधिकारीयो की लापराहवाही के कारण सड़क अभी से टुटने लगी है जिससे लोग अब सड़क की गुणव्त्ता पर सवाल उठा रहे है और यह जायज भी है क्योकी लोगो को ही इन सड़को का उपयोग आवागमन के लिये करना है सड़क निर्माण कम्पनी तो यंहा से सड़क बना कर पैसे लिये और चलते बने परेशानी तो आम लोगो को उठानी पड़ती है।

error: Content is protected !!